डोंबिवली | दिव्यांग व्यक्ति की बेटी के साहस और हिम्मत देखकर चोर भागने को हुए मजबूर

by | Jan 10, 2021 | कल्याण, ठाणे, महाराष्ट्र

सीसीटीवी के आधार पर तीन चोर गिरफ्तार
मिथिलेश गुप्ता | हेडलाइंस18
डोंबिवली : डोंबिवली पश्चिम में एक चौंकाने वाली घटना सामने आई हैं । एक दिव्यांग व्यक्ति जब घर मे अकेला था, उसी समय कुछ चोर अकेले होने का फायदा उठाकर घर मे घुसे लेकिन दिव्यांग व्यक्ति की बेटी की बहादुरी ने चोरों के चोरी करने के मंसूबों को नाकाम कर दिया । चोरों ने घर से केवल ढाई हजार रुपये नकद और एक मोबाइल फोन लेकर भागे और भागते समय चोर सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गए ।


मिली जानकारी के अनुसार डोंबिवली पश्चिम के गुप्ते रोड परिसर में सुरजमणि इमारत में दिव्यांग व्यक्ति अपने पत्नी और बेटी के साथ रहता था । दिव्यांग अशोक गिरी रिटायर बैंक कर्मचारी हैं । 5 जनवरी को पत्नी और बेटी प्रतिक्षा कुछ काम से घर के बाहर गए थे । इसी समय 4 चोर घर मे घुसे जो पहले से अशोक गिरी के घर पर नजर बनाए हुए थे । घर मे घुसते ही चोरों ने अशोक गिरी के गर्दन पर चाकू रखकर मारने की धमकी दी । उनके हाथ को कुर्सियो से बांध दिया और आवाज न कर सके इसलिए मुह पर पट्टी चिपका दिया । इतने में बेटी प्रतिक्षा में घर मे आई और चोरों ने उसे पकड़कर उसके हाथों को बांधने का प्रयास किया । लेकिन बेटी घबराई नहीं वह जोर जोर से चिल्लाने लगी। उसकी आवाज से चोर घबरा गए । चिल्लाने की आवाज से पड़ोसियो को कुछ गड़बड़ होने आशंका हुई । उससे पहले कि लोग जमा होते कि चोर वहां से भाग खड़े हुए और जाते जाते ढाई हजार रुपए और मोबाइल लेकर गए । लेकिन इस अफरातफरी में एक चोर की मोबाइल वही घर मे गिर गया । पुलिस ने मोबाइल फोन के माध्यम से तीन चोरो को गिरफ्तार कर लिया है। विष्णूनगर पुलिस थाने के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक संजय साबले की मार्गदर्शन में सहायक पुलिस निरीक्षक गणेश बडणे, पुलिस नाईक कुरणे, पुलिस शिपाई कुंदन भांबरे, मनोज बडगुजर और भगवान सांगले ने इन आरोपियों को गिरफ्तार किया ।

■ चौकाने वाली बात यह है कि, तीनो में से एक चोर उसी इमारत में रहता था जिसने चोरी करने का पूरा जाल बिछाया था यह पुलिसों की जांच में सामने आया । चेतन मकवना, अब्दुल शेख, दिनेश रावल ऐसे तीनो आरोपियों के नाम हैं । इस चोरों में एक महिला भी शामिल थी । भीड़भाड़ वाले बस्ती में शाम के समय इस तरह की घटना से परिसर के लोग भयभीत हैं ।

यह न्यूज जरूर पढे