एक देश एक मतदाता सूची से पूरे देश में होंगे लोकसभा,विधानसभा और स्थानीय निकायों के चुनाव

by | Aug 30, 2020 | देश/विदेश

सरकार करने जा रही है एक देश एक मतदाता सूची एक ही मतदाता सूची से पूरे देश में होंगे लोकसभा, विधानसभा और स्थानीय निकायों के चुनाव

दिल्ली: मोदी सरकार लोकसभा, विधानसभा एवं स्थानीय निकायों के चुनाव के लिए एक ही मतदाता सूची बनाने की संभावनाओं पर विचार कर रही है। इससे मतदाता सूचियों की विसंगति खत्म करने और उनमें एकरूपता लाने में मदद मिलेगी। अधिकारियों ने शनिवार को यह जानकारी दी।
एक ही मतदाता सूची से एकरूपता आएगी और खर्च भी कम होगा
संविधान में राज्यों को पंचायत एवं निकाय चुनावों के लिए अपने नियम बनाने का अधिकार दिया गया है। उन्हें यह भी अधिकार है कि वे अपने स्तर पर मतदाता सूची तैयार कराएं या विधानसभा चुनाव के लिए तैयार चुनाव आयोग की मतदाता सूची का प्रयोग करें।

अब केंद्र मोदी सरकार लोकसभा, विधानसभा एवं स्थानीय निकायों के लिए एक ही मतदाता सूची की संभावना तलाश रही है, जिससे एकरूपता भी आएगी और खर्च भी कम होगा।
मतदाता सूचियों में कोई विसंगति नहीं रहेगी
एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ‘सरकार विचार कर रही है कि क्या इन तीनों तरह के चुनाव के लिए एक ही मतदाता सूची हो सकती है? राज्यों को केंद्रीय मतदाता सूची को ही अपनाने के लिए राजी किया जा सकता है।’ एक अन्य अधिकारी ने कहा कि अलग-अलग मतदाता सूची होने के कारण एक ही काम पर दोहरा खर्च होता है। यह मतदाताओं के लिए भी अच्छा होगा क्योंकि मतदाता सूचियों में कोई विसंगति नहीं रहेगी। कई बार ऐसा देखने में आता है कि किसी व्यक्ति का एक मतदाता सूची में नाम होने के बाद भी दूसरी सूची में नाम नहीं होता है।
“चुनाव आयोग एवं कानून मंत्रालय के अधिकारियों से राय ले रही सरकार”
इस महीने की शुरुआत में प्रधानमंत्री कार्यालय ने इस संबंध में बैठक बुलाई थी, जिसमें कानून मंत्रालय एवं चुनाव आयोग के शीर्ष अधिकारियों से मौजूदा व्यवस्था एवं संभावनाओं पर राय मांगी गई।
चुनाव आयोग, विधि आयोग 1999 में एक मतदाता सूची की वकालत कर चुके हैं
चुनाव आयोग, विधि आयोग, कानूनी मामलों पर संसद की स्थायी समिति और कार्मिक मंत्रालय पहले भी कई मौकों पर एक मतदाता सूची की वकालत कर चुके हैं। नवंबर, 1999 में चुनाव आयोग ने सरकार को पत्र लिखकर कहा था कि चुनाव आयोग और राज्य चुनाव आयोगों की ओर से अलग-अलग मतदाता सूचियों से मतदाताओं के भी भ्रम की स्थिति बनती है। कई बार एक सूची में नाम होने पर भी दूसरी में नहीं होता।
एक ही काम के लिए नहीं होगा केंद्र एवं राज्य में अलग-अलग खर्च
एक ही काम के लिए दो बार आवेदन करना पड़ता है और पूरा खर्च भी दोगुना हो जाता है। संसदीय समिति ने कानून मंत्रालय के मांग एवं अनुदान (2016-17) की रिपोर्ट में चुनाव आयोग एवं राज्य चुनाव आयोगों की ओर से अलग-अलग मतदाता सूचियां बनाने का उल्लेख किया था। इसमें कहा गया था कि मतदाताओं का रजिस्ट्रेशन एवं अपडेशन अलग-अलग किया जाता है और सूचियों में मतदाताओं की संख्या भी भिन्न रहती है।
“अभी यह है व्यवस्था”
अभी लोकसभा एवं विधानसभा चुनाव के लिए चुनाव आयोग मतदाता सूची तैयार करता है। वहीं नगर निगम व पंचायत जैसे स्थानीय निकायों के चुनावों के लिए राज्य चुनाव आयोग अपने-अपने स्तर पर मतदाता सूचियां तैयार करते हैं। कई राज्य चुनाव आयोग अपनी मतदाता सूची बनाने के लिए चुनाव आयोग की ड्राफ्ट मतदाता सूची का इस्तेमाल करते हैं।

यह न्यूज जरूर पढे 

परशदेपुर: गरीबों के हक पर खुलेआम डाका,जरूरतमंदों को नहीं मिल रहा पीएम आवास योजना का लाभ

परशदेपुर: गरीबों के हक पर खुलेआम डाका,जरूरतमंदों को नहीं मिल रहा पीएम आवास योजना का लाभ

राजकुमार रायबरेली. सरकार ने इस उम्मीद के साथ प्रधानमंत्री आवास योजना शुरू की थी कि 2022 तक प्रत्येक गरीब व पात्र व्यक्ति को सिर पर पक्की छत हो। लेकिन आज भी गरीब व पात्र व्यक्ति योजना का लाभ लेने के लिए सरकारी दफ्तर के चक्कर काट रहे हैं। वहीं अमीर व प्रभावशाली लोग इसका...

नासिक में ट्रक और ऑटो रिक्शा में भीषण भिड़ंत,पांच लोगों की मौत

नासिक में ट्रक और ऑटो रिक्शा में भीषण भिड़ंत,पांच लोगों की मौत

महाराष्ट्र के नासिक जिले के निफड़ तालुका के लासलगांव-विनचुर मार्ग पर एक ऑटोरिक्शा और ट्रक की टक्कर में कम से कम पांच लोगों की मौत हो गई। पुलिस ने इसकी जानकारी दी । लासलगांव थाने के अधिकारी ने रविवार को बताया कि घटना शनिवार देर रात की है और दुर्घटना में मारे गए सभी लोग...

प्लेन हो या होटल, थके नहीं प्रधानमंत्री मोदी; 65 घंटे के अमेरिकी दौरे में कीं कुल 20 मीटिंग,विमान के सफर में भी चलती रही बैठके

प्लेन हो या होटल, थके नहीं प्रधानमंत्री मोदी; 65 घंटे के अमेरिकी दौरे में कीं कुल 20 मीटिंग,विमान के सफर में भी चलती रही बैठके

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (prime minister narendra modi) अपनी तीन दिवसीय अमेरिका यात्रा से वापस लौट चुके हैं। उनका यह दौरा 65 घंटे का था और इस दौरान वह एक के बाद एक 20 बैठकों में शामिल हुए। इतना ही नहीं अमेरिका जाते और लौटते समय विमान भी में पीएम मोदी ने...