बोईसर: मंदी के जाल में फंसी सैकड़ो फैक्ट्रियां बिकने की कगार पर,हजारो लोगो की छिन सकती है,नौकरियां

by | Oct 1, 2020 | पालघर, महाराष्ट्र

योगेंद्रसिंह ठाकुर
केन्द्र व राज्य सरकार को करोड़ों का राजस्व देने वाला तारापुर औद्योगिक क्षेत्र आर्थिक मंदी को लेकर भयभतीय है। क्योंकि यहां स्थित फैक्ट्रियों का उत्पादन पिछले एक दशक की तुलना में सबसे निचले स्तर पर पहुंच चुका है। यानि कि उत्पादन 50 फीसदी तक गिर चुका है। फैक्ट्री मालिको का कहना है, कि खरीदार है ही नहीं, तो मजबूरन उत्पादन ही घटा दिया है। और पहले से उत्पादित माल को खपाने के लिए आफर दे रहे हैं। बावजूद खरीदार नहीं मिल रहे हैं। स्थिति यह है कि फैक्ट्री मालिक उत्पादन को नो प्रोफिट नो लोस पर बेचने के लिए तैयार हैं। बहरहाल, यहां ग्लोबल आर्थिक मंदी का डर साफ तौर पर देखा जा सकता है।


सैकड़ो फैक्टरियां बिकने की कगार पर
तारापुर एमआईडीसी में करीब डेढ़ हजार फैक्ट्रियां है,जो लगभग डेढ़ लाख लोगो को रोजगार देती है। लेकिन इन दिनों यह आर्थिक मंदी की चपेट में फंसकर कराह रही है। टीमा के सलाहकार वीरेंद्र ठाकुर (पापा) ने बताया कि कोरोना के कारण कामगारों की भारी कमी है। आर्थिक मंदी की चपेट में आकर टेक्सटाइल उद्दोग बुरी तरह प्रभावित हुआ है। उन्होंने कहा कि तारापुर औद्योगिक क्षेत्र में स्थित कई फैक्ट्रियों में मांग की कमी के कारण उत्पादन आधे से भी कम रह गया है। उन्होंने कहा कि आज सैकड़ो फैक्ट्रिया बिकने की कगार पर खड़ी है। वीरेंद्र ठाकुर ने कहा कि औद्योगिक क्षेत्रों को मंदी की चपेट से बाहर निकालने के लिए तत्काल और कदम उठाये जाने की जरूरत है।

यह न्यूज जरूर पढे