जालोर | मोहनलाल छीपा की हत्या को लेकर समाज का प्रदर्शन,प्रशासन को दी चेतावनी ; नही हुई कार्यवाही तो अगला आंदोलन राजपथ पर

by | Sep 30, 2022 | देश/विदेश, राजस्थान

हेडलाइंस18 नेटवर्क
जालोर : जिले के रामसीन थाना क्षेत्र में मोहनलाल छीपा की हत्या के मामले को लेकर पूरे छीपा समाज मे आक्रोश का माहौल है । इस हत्याकांड को लेकर समाज की विभिन्न संस्था राजस्थान,गुजरात व महाराष्ट्र की छीपा समाज की संस्थाए अपने स्तर पर प्रशासन पर दबाव बनाने के लिए एकजुट हो गई है । कुछ दिन पूर्व सिरोही में समाज द्वारा प्रदर्शन किया गया था ।
आज जालोर में छीपा समाज का जन सैलाब उमड़ा जो कि एक भव्य रैली के रूप में नारेबाजी करते हुए कलेक्टर कार्यालय पहुंचे ।

भारी तादाद में जालोर जिले सहित बाहर से छीपा समाज के पुरुष व महिला समाज के परिवार को न्याय दिलाने हेतु नामदेव छीपा समाज जालोर,सिरोही,पाली एवं नामदेव युवा परिषद जालोर द्वारा जिला कलेक्टर को ज्ञापन देने के लिए विशाल रैली द्वारा पूरा समाज की न्याय की मांग करते हुए बड़ी भीड़ में कलेक्टर कार्यालय पहुंचा ।

न्याय दिलाने के लिए समाज ने बनाई समिति

रामसीन में हुई मोहनलाल छीपा हत्या की निष्पक्ष जांच के लिए नामदेव युवा परिषद-जालोर एवं जालोर पाली सिरोही जिले के छीपा समाज की मोहन छीपा को न्याय दिलाने के लिए पच्चीस सदस्य की समिति का गंठन किया गया है,जो इस मामले पूरी बारीकी से रिपोर्ट रखेगी व न्याय नही मिलने तक आगे की रणनीति का खाका तैयार करेगी ।

नही हुई कार्यवाही तो राजपथ पर आंदोलन की तैयारी

न्याय समिति के एक सदस्य ने बताया की छीपा समाज न्याय नही मिलने तक चुप नही बैठेगा,नामदेव छीपा समाज जालोर सिरोही पाली जिले एवम नामदेव युवा परिषद जालोर द्वारा प्रशासन को चेतावनी देते हुए कहा की दोषियों पर जल्द कार्रवाई नही हुई तो अगला आंदोलन राजपथ पर होगा जिसमे पूरे प्रदेश का समाज जुटेगा ।

क्यो है प्रशासन मौन ?

इस हत्याकांड को हुए एक महीना पूरा हो गया,समाज ने न्याय के लिए विभिन्न जगह आंदोलन किया,मुख्यमंत्री,राज्यपाल के नाम ज्ञापन दिया, पर उसके बावजूद भी प्रशासन मौन क्यो है ? ये बड़ा सवाल है,आखिर में किसके दबाव में किसको बचाया जा रहा है । प्रशासन का यह रवैया समाज के सब्र की परीक्षा ले रहा है पर समाज ने भी ठान लिया है वो किसी भी कीमत पर हार नही मानेंगे ।

क्या है पूरा मामला

बीते एक सितंबर को रामसीन निवासी मोहनलाल छीपा का शव घर मे घुटनो के बल पर लटकाया हुआ मिला,इस घटना पर मौके पर मिले शव व अन्य तथ्यों के आधार पर वह एक पूरे प्लानिंग से की गई हत्या को दर्शाता है ,किसी भी एंगल से इसे आत्महत्या नही बोल सकते ।
पुलिस विभाग इस मामले को गम्भीरता से नही लेकर दबाने की कोशिश में लगी हुई है। इन सभी बातों से सवाल खड़ा होता है कि आखिर पुलिस किसके दबाव में काम कर रही है ?

यह न्यूज जरूर पढे