पालघर : जिला परिषद भ्रष्टाचार का बोलबाला,डेढ़ साल में रिश्वत लेते धर दबोचे 10 अधिकारी- कर्मचारी

by | Apr 28, 2022 | पालघर, महाराष्ट्र, वसई विरार

पालघर : पालघर जिला परिषद कार्यालय भ्रष्टाचार और रिश्वतखोरी का अड्डा बन गया हैं.पिछले डेढ़ साल में रिश्वतखोरी रोकथाम विभाग ने जिला परिषद के करीब 10 अधिकारियों और कर्मचारियों को रिश्वत लेते पकड़ा है। रिश्वतखोरी में नौकरशाहों की संख्या अधिक है। पालघर जिला परिषद में सबसे ज्यादा भ्रष्टाचार निर्माण एवं शिक्षा विभाग में हो रहा है। इसके बाद ग्राम पंचायत, जलापूर्ति, स्वास्थ्य और अन्य विभागों का नंबर आता है। जिला परिषद के कुछ विभागों में कहा जाता है कि तबादला प्रक्रिया में कदाचार तो हो ही रहा है, साथ ही मनपसंद ठेकेदार को काम दिलवाया जा रहा है. 2019 के दौरान शिक्षा विभाग ने शिक्षा अधिकारी को रुपये की रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़ा था. कुछ महीने बाद निर्माण विभाग का एक क्लर्क जाल में फंसा मिला।
दो दिन पहले शिक्षा अधिकारी लता सनप को 25 हजार रुपये की रिश्वत लेते रंगेहाथ पकड़ा गया था।
शिक्षा विभाग में शिक्षकों के तबादले समेत कई मामलों में शिक्षकों से पैसे लेने और शिक्षण संस्थानों के काम के बदले में पैसा लेना भी शामिल है।जिला परिषद में विभिन्न विभागों के अंतर्गत कार्य प्राप्त करने वाले ठेकेदारों द्वारा अधिकारियों सहित कर्मचारियों को भारी भरकम पॉकेट मनी पुरस्कार वितरित किये जा रहे हैं.कहा जाता है कि सरकार और आदिवासी विकास विभाग के फंड का दुरुपयोग किया जा रहा है। ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए सीईओ के प्रयासों के बावजूद भी भ्रष्टाचार और रिश्वतखोरी पर लगाम लगती नही दिख रही है ।

घूसखोरी प्रतिबंधक विभाग द्वारा की गई कार्रवाई

■ 2019 : शिक्षा अधिकारी देसले ने ली एक लाख रुपए की रिश्वत

■ 12 अक्टूबर, 2020: प्रकाश पागी, कनिष्ठ सहायक, बांधकाम विभाग (6,000 रुपये)

■ 29 अक्टूबर, 2021: संजीव धामणकर, पशुपालन अधिकारी, जिला परिषद (10,000 रुपये)

■ 16 फरवरी, 2022: कल्पेश धोड़ी, चिंचनी ग्राम पंचायत के सरपंच (20,000 रुपये)

■ 11 अप्रैल 2022: डॉ. शरद गायकवाड़, चिकित्सा अधिकारी, तारापुर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र (500 रुपये)

■ 25 अप्रैल, 2022: प्राथमिक शिक्षा अधिकारी लता सानप (25,000 रुपये)

रिश्वत लेना और देना अपराध है। यदि जिले में कोई लोक सेवक, जन प्रतिनिधि रिश्वत मांग रहा हो या भ्रष्टाचार कर रहा हो तो तुरंत रिश्वत प्रतिबंधक विभाग से 02525-297297 या 1064 पर संपर्क करें।
नवनाथ जगताप, डीवाईएसपी ( एंटी करप्शन ब्यूरो-पालघर )

यह न्यूज जरूर पढे