BOISAR : वर्षो पुरानी मांग होगी पूरी,पालघर जिले समेत तारापुर एमआईडीसी के लाखों कामगारों को होगा ये बड़ा फायदा,पढ़े पूरी खबर

by | Apr 7, 2022 | पालघर, महाराष्ट्र, वसई विरार

हेडलाइंस 18 नेटवर्क
बोईसर : राज्य बीमा योजना, एक बहुआयामी सामाजिक सुरक्षा प्रणाली है जो इस योजना के तहत शामिल श्रमिक आबादी और उनके आश्रितों को सामाजिक-आर्थिक सुरक्षा प्रदान करने के लिए तैयार की गई योजना ESIC है।

जिसमे एमआईडीसी तारापुर में हजारों कर्मचारी ईएसआईसी के साथ पंजीकृत हैं और कई हजार अपंजीकृत कर्मचारी काम करते हैं। जिनसे करोड़ो रूपये का फंड ईएसआईसी (ESIC) के नाम पर वसूला जा रहा है । पर कोई सुंध लेने वाला नही है । इसके लिए न किसी औधोगिक संस्था ने,न किसी बड़ी -बड़ी औधोगिक कंपनियों के उधोगपतियों ने, न किसी जनप्रतिनिधि ने व किसी प्रशासनिक अधिकारी ने रुचि दिखाई की इतनी बड़ा एमआईडीसी तारापुर का औधोगिक हब होने के बावजूद भी यहां पर सुविधायुक्त सरकारी हॉस्पिटल व ESIC हॉस्पिटल की सुविधा क्यो नही है ?


बड़ी संख्या में औद्योगिक मजदूरों और उनके परिवार के सदस्यों को चिकित्सा लाभ के लिए निजी अस्पतालों (Privet Hospital) में जाना पड़ता है जहां पर उनके पहुंच के बाहर का खर्चा झेलना पड़ता है । बहुत बार ज्यादा इमरजेंसी केस में मुंबई व गुजरात तक दौड़ना पड़ता है जिसमे समय व पैसे दोनो का नुकसान एक साधारण मजदूर को उठाना पड़ता है । जिसके निजी हॉस्पिटल के एक चक्कर से पांच साल की पूरी अर्थव्यवस्था बिगड़ जाती है । क्योकि वर्तमान में चिकित्सा आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए क्षेत्र में कोई ईएसआईसी अस्पताल (ESIC Hospital) नहीं है। बोईसर में दो निजी अस्पताल को उसके लिए मान्यता दी हुई है पर हमें कई कर्मचारियों ने बताया कि उधर सुविधाओ का अभाव है ।

क्या है ईएसआईसी ?

कर्मचारी राज्‍य बीमा निगम, भारतीय कर्मचारियों के लिये बीमा धनराशि का प्रबन्धन करता है। कर्मचारी राज्‍य बीमा, भारतीय कर्मचारियों के लिये चलायी गयी स्व-वित्तपोषित सामाजिक सुरक्षा एवं स्वास्थ्य बीमा योजना है। सभी स्थायी कर्मचारी जो 21,000 रूपये प्रतिमाह से कम वेतन पाते हैं, इसके पात्र हैं। सरकार इसकी लिमिट 30 हजार करने की तैयारी में है ।

ईएसआईसी से फायदा

अगर कोई ESI (Employee State Insurance) के तहत मिलने वाले मुफ्त इलाज का लाभ लेना चाहता है तो उसे ESI डिस्पेंसरी या हॉस्पिटल जाना होता है। कम आय वाले कर्मचारियों पर इलाज के खर्च का बोझ कम रहे और कोई अनहोनी होने की स्थिति में परिवार को मदद हो सके, इसके लिए केन्द्रीय श्रम मंत्रालय कर्मचारी राज्य बीमा (ESI) योजना चलाता है।

कितना व कैसे कटता है ईएसआईसी चार्ज

जैसे किसी कर्मचारी की बेसिक सेलरी (Basic salary) 10 हजार रुपये है तो उस सेलरी का 0.75 प्रतिशत मतलब 75 रुपये कर्मचारी के वेतन से कटता है व 3.25 प्रतिशत मतलब 325 रुपये कंपनी भरती है । कुल मिलाकर 4 प्रतिशत अर्थात 10 हजार वेतन वाले कर्मचारी की ओर से 400 रुपये फंड सरकार के पास जाता है । आप इससे अंदाजा लगा सकते है कि इतनी बड़ी तारापुर एमआईडीसी ( Tarapur MIDC) के हजारों श्रमिको से ईएसआईसी को कितनी बड़ी राशि जाती है।

क्या कहते है आंकड़े

पालघर जिले के तारापुर,वसई,तलासरी,विक्रमगढ़,वाडा, जव्हार,दहानू ,पालघर में लगभग 109464 कर्मचारी ईएसआईसी (ESIC) के साथ पंजिकृत है और अनुमानित 76892 अपंजीकृत कर्मचारी काम करते है ।

सांसद राजेन्द्र गावित ने ईएसआईसी अस्पताल रखी मांग

पालघर लोकसभा के सांसद राजेन्द्र गावित (Rajendra Gavit) ने दिल्ली में केंद्रीय श्रम मंत्री भूपेंद्र यादव (Bhupendra yadav) से मुलाकात कर इस विषय को सामने रखा कि पालघर क्षेत्र के लाखों औद्योगिक श्रमिकों और उनके परिवारों के लाभ के लिए प्राथमिकता के आधार पर सभी आधुनिक चिकित्सा सुविधाओं के साथ 300 बिस्तरों वाले ईएसआईसी अस्पताल के निर्माण की व्यवस्था की जाए। श्रम मंत्री ने सांसद गावित को आश्वासन दिया कि पालघर लोकसभा में जल्द से जल्द कर्मचारी राज्य बीमा योजना (ईएसआईसी) अस्पताल की स्थापना की जाएगी ।

यह न्यूज जरूर पढे