Palghar | गर्भवती महिलाएं त्रस्त, वैद्यकीय आरोग्य विभाग मस्त – मनोज बारोट

by | Apr 4, 2022 | पालघर, महाराष्ट्र, वसई विरार

पालघर : वसई विरार शहर मनपा का नालासोपारा पूर्व स्थित सर्वोदय वसाहत, माता बाल संगोपन केंद्र में रोजाना सैकड़ों गरीब गर्भवती महिलाएं इलाज के लिए जाती है. गर्भवती महिलाओ की प्रसूति होने तक बारी बारी से खून की जांच करनी होती है. लेकिन सर्वोदय वसाहत स्थित माता बाल संगोपन केंद्र की प्रयोग शाला का खून की जांच के लिए इस्तेमाल में आनेवाला बायोकेमिस्ट्री मशीन गत एक साल से बंद पड़ा है. इसलिए गरीब गर्भवती महिलाओं को खून की जांच निजी लैब से करवाई जा रही है. यदि मनपा का बायोकेमिस्ट्री मशीन बंद है तो उसके लिए गरीब गर्भवती महिलाएं कैसे खर्चा चुकाए?

इस समस्या को लेकर भाजपा वसई विरार जिला उपाध्यक्ष मनोज बारोट ने मनपा आयुक्त को लिखित पत्र से अवगत कराते हुए बताया है कि इस प्रकार की महत्वपूर्ण सुविधा किसी तकनीकी कारण से एक या दो दिन के लिए बंद होगी तो समझ में आता है लेकिन सालभर से बंद होने के बावजूद वरिष्ठ अधिकारी आंख मिचौली करते नजर आ रहे है. बारोट ने अपने पत्र में वैधकीय आरोग्य विभाग को घेरते हुए बताया है की यदि किसी कारणवश आरोग्य विभाग बायोकेमिस्ट्री मशीन की मरम्मत करवाने में या नया मशीन देने में असमर्थ है तो ऐसी परिस्थिति में केंद में ईलाज ले रही महिलाओ की खून की जांच किसी भी निजी लैब में करवाने की जगह मनपा के जिस केंद में सुविधा उपलब्ध है वहा करवानी चाहिए. लेकिन ऐसा नहीं कर के निजी लैब से जांच करवाने के लिए मजबूर किया जा रहा है और इसके लिए इन सब गरीब गर्भवती महिलाओ को बड़ी रकम चुकानी पड़ती है.

एक तरफ केंद सरकार गर्भवती महिलाओ को प्रसूति के बाद बच्चे और मां के आरोग्य का खयाल रखने के लिए पैसा देती है लेकिन यहां वसई विरार मनपा प्रशासन की लापरवाही का भुगतान गरीब महिलाओ को चुकाना पड़ रहा है. इसलिए इसे मनपा द्वारा ही गरीबों की लूट कहना गलत नही होगा. गरीबों की लूट रोकने के लिए सर्वोदय वसाहत स्थित माता बाल संगोपन में बंद अवस्था में पड़ा बायोकेमिस्ट्री मशीन तुरंत मरम्मत किया जाए या नया मशीन उपल्ब्ध करवाने की मांग बारोट ने अपने पत्र में आयुक्त से की है.

यह न्यूज जरूर पढे