पालघर | 5 हजार से ज्यादा लड़कियों की खरीद फरोख्त करने वाला मानव तस्कर जिसे जांच एजेंसी तक नही ढूंढ पाई थी, इंदौर की इस महिला थानेदार ने खुद की बोली लगाकर दबोचा …

by | Mar 8, 2022 | देश/विदेश, पालघर, महाराष्ट्र, वसई विरार

पालघर : एक ऐसा मानव तस्कर जिसने सभी के नाक में दम करके रखा था करीबन पांच हजार से ज्यादा लड़कियों की खरीद फरोख्त करने वाले बांग्लादेशी तस्कर मामून को पकड़ना मुमकिन ही नही मुश्किल वाली बात हो गई थी। पालघर जिले के नालासोपारा जैसे बड़े शहर में रहने वाला मामून सालों से विजय दत्त बनकर पूरे देश में लड़कियों की सप्लाई कर रहा था।

लेकिन इंदौर की थानेदार प्रियंका शर्मा ने कुख्यात तस्कर को फंसाने के लिए खुद की बोली लगा दी। तीन दिन इधर-उधर घुमाने के बाद मामून बस्ती से बाहर निकला और प्रियंका उसे इंदौर पकड़ कर ले गई।

जागरण के रिपोर्ट मुताबिक भोपाल की रहने वाली प्रियंका शर्मा 2017 बैच की सब इंस्पेक्टर है। बीई (कंप्यूटर साइंस) करने के बाद एसआई के लिए चयन हो गया। ट्रेनिंग लेने के बाद प्रियंका की पहली पोस्टिंग इंदौर के विजय नगर थाना में हुई।

इंदौर में देह व्यापार के अड्डे पर छापा मार 21 लड़कियों को करवाया तभी प्रियंका उस वक्त चर्चा में आई थी । बांग्लादेश की 21 लड़कियों को बंधक बना कर रखा गया था। प्रियंका ने उन्हें मुक्त करवाया और करीब 40 तस्करों को गिरफ्तार कर जेल भिजवा दिया था। इसके बाद प्रियंका ने ड्रग माफिया के विरुद्ध अभियान छेड़ा और आंटी उर्फ काजल सहित हाई प्रोफाइल घरानों के युवकों को जेल भेजा।

पिछले साल नवंबर में प्रियंका ने बांग्लादेश के मानव तस्कर मामून को पालघर के नालासोपारा से पकड़ा तो देशभर की जांच एजेंसियां सकते में आ गई।मामून पहचान छुपा कर नालासोपारा में रहता था। प्रियंका जानती थी कि मामून जिसे एनआइए व सीआइडी नहीं ढूंढ पाई, उसे पकड़ना इतना आसान नहीं है। प्रियंका ने जाल बिछाया और दलालों के जरिए खबर भिजवा दी कि उप्र की एक लड़की बिकने के लिए आई है। तीन दिन बाद मामून घर से बाहर निकला और एसआइ ने उसे दबोच लिया। इसके पहले मामून जांच एजेसियों के हत्थे नहीं चढ़ा था।

यह न्यूज जरूर पढे