यूक्रेन में जान गवाएं नवीन के पिता का छलका दर्द ; भारत मे जाति के आधार पर मिलती है सीट,97% मार्क लाने के बावजूद देश मे नही मिला एडमिशन

by | Mar 2, 2022 | देश/विदेश

रूस और यूक्रेन के बीच वार में मारे गए भारतीय छात्र नवीन के पिता ने भावुक होकर मीडिया को बताया कि 97% लाने के बाद भी उनके बेटे को भारत में एडमिशन नहीं मिला था। इसलिए उन्हें यूक्रेन भेजा गया।

बेटे की मौत से आहत पिता ने मीडिया को अपनी बात रखते हुए उन्होंने भारतीय शिक्षा क्षेत्र में लागू आरक्षण नीतियों पर भी वार करते हुए कहा कि टैलेंटेड बच्चो को भी आरक्षण के चलते अपना भविष्य बनाने का अवसर नही मिलता ।

नवीन के पिता शेखरप्पा ने कहा, “हमारे कुछ सपने थे जो अब बिखर गए हैं। मेरा बेटा जिसने प्री यूनिवर्सिटी कोर्ट में 97% मार्क्स पाए थे, एक टैलेंटेड बच्चा था जिसे सिर्फ यहाँ के सिस्टम की वजह से बाहर पढ़ने जाना पड़ा, जिसमें प्राइवेट एड्यूकेशन इंस्टिट्यूट आपकी पहुँच से बाहर होते हैं। मैंने पता किया था मुझे किसी भी मेडिकल कॉलेज में उसका एडमिशन करवाने के लिए 85 से 1 करोड़ देने थे। तब मैंने सोचा कि मैं अपने बेटे को यूक्रेन भेजूँगा। लेकिन वो तो मुझे और ज्यादा महंगा पड़ गया।”भारत में सिर्फ जाति के आधार पर मिलती हैं सीटें। मेरे बेटे के 97 फीसद पीयूसी में आए थे।”

यह न्यूज जरूर पढे