अखिलेश यादव जब मुख्यमंत्री थे तब 8.84 करोड़ की संपत्ति 37.78 करोड़ हुई, योगीराज में हुई मामूली ग्रोथ,जानिए आंकड़े

by | Feb 5, 2022 | उत्तर प्रदेश, लखनऊ

अखिलेश यादव द्वारा दिए गए आंकड़े बोलते हैं कि उनकी संपत्ति अखिलेश सरकार के दौरान यानि 2012 से 2017 के बीच में चार गुना बढ़ी। पिता मुलायम सिंह की तीसरी सरकार के दौरान अखिलेश यादव की संपत्ति दो-गुना बढ़ी। हां, योगी आदित्यनाथ के कार्यकाल में अखिलेश यादव की संपत्ति ने अजब रिकॉर्ड बनाया। खजाना बढ़ाने के सारे स्कोप खत्म हो जाने के कारण इन पांच सालों में अखिलेश की संपत्ति मात्र दस प्रतिशत ही बढ़ पाई।

यूपी विधानसभा चुनाव :सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने सोमवार को मैनपुरी की करहल विधानसभा से नामांकन दाखिल किया। 2004 में भी वह कन्नौज से ही सांसद का चुनाव लड़े। तब दाखिल किए गए नामांकन पत्र के मुताबिक उनकी संपत्ति 2 करोड़ 31 लाख थी। जबकि आज करहल से उन्होंने जो नामांकन दाखिल किया है, उसमें उनकी संपत्ति 40.4 करोड़ तक पहुंच गई। यानी 22 साल में उनकी संपत्ति 17 गुना बढ़ी है।

हालांकि अखिलेश यादव की संपत्ति बढ़ने की रफ्तार अलग-अलग रही है। जैसे जब उनकी सरकार थी तब उनकी संपत्ति करीब 4 गुना रफ्तार से बढ़ी। यह उनकी सबसे ज्यादा ग्रोथ रही है। वहीं, योगी सरकार के शासन में तीन साल में उनकी संपत्ति सबसे कम महज 10% बढ़ी।

2012 का विधानसभा चुनाव जीतने के बाद अखिलेश यादव को कन्नौज लोकसभा सीट से इस्तीफा देना पड़ा। विधान परिषद के जरिए वह सदन पहुंच गए। सांसद से एमएलसी बनने तक उनकी संपत्ति 1.82 गुना ही बढ़ी। 2012 में दाखिल एफिडेविट के मुताबिक अखिलेश ने 8 करोड़ 84 लाख 83 हजार 492 रुपए की अपनी संपत्ति बताई। 3 साल में उन्होंने डिंपल यादव को 22 लाख का उधार दिया।

यही नहीं, अखिलेश ने अपने भाई प्रतीक यादव को भी 1 करोड़ का उधार दिया। जबकि समाजवादी पार्टी को भी 1 लाख का कर्ज दिया। वहीं, डिंपल यादव की ज्वेलरी में और इजाफा हो गया। 2012 तक डिंपल के पास 59 लाख की ज्वेलरी हो चुकी थी।

यह न्यूज जरूर पढे