उत्तर प्रदेश से पकड़े गए बोईसर के बंटी-बबली, रेलवे में नौकरी के नाम पर लोगों से की लाखों की ठगी

by | Jan 23, 2022 | ठाणे, पालघर, महाराष्ट्र, वसई विरार

बोईसर : पुलिस ने उत्तर प्रदेश के गोरखपुर से एक दंपति को गिरफ्तार किया है, जो रेलवे में नौकरी और काम का ठेका दिलाने के नाम पर लाखों रुपये ठग कर फरार हो गए थे.
रेलवे में काम करने वाले राकेश कुमार करन ने 2020 में ओसवाल वंडर सिटी, बोईसर पूर्व में एक ऑफिस की शुरुआत की, जिससे युवाओ से रेलवे में जॉब व कांट्रेक्ट के नाम पर लाखों रुपये ठगे ।
आरोपी ने अच्छी सरकारी नौकरी की उम्मीद कर रहे युवकों को पश्चिम रेलवे और पालघर के पुलिस अधीक्षक के फर्जी टिकटों का उपयोग कर फर्जी चरित्र सत्यापन प्रमाण पत्र और नौकरी नियुक्ति पत्र दिए थे। उसे खोजने की कोशिश में पता चला कि उसने कार्यालय बंद कर दिया था ।
ठगी करने वाले युवक की शिकायत पर मार्च 2021 में बोईसर थाने में आरोपी दंपत्ति के खिलाफ धारा 420 व 406 के तहत मामला दर्ज किया गया था.
बोईसर की तरह, दंपति पहले ही दिल्ली, गुजरात और बिहार में करोड़ों रुपये की लूट कर चुके हैं। पुलिस के लिए उन्हें ट्रैक करना मुश्किल था क्योंकि वे एक राज्य में धोखा देकर दूसरे राज्य में भाग रहे थे।

मामले की जांच कर रहे पुलिस उपनिरीक्षक योगेश खोंडे ने बताया कि बोईसर में अब तक करीब 13 लोग सामने आए है। जिन्हें दिनों पति-पत्नी ने ठगा है। दोनों के कब्जे से कई फर्जी दस्तावेज और प्रिंटर जप्त किये गए है। इनके विरुद्ध दो मामले दूसरे राज्यो में भी दर्ज है।
हालांकि, पालघर के पुलिस अधीक्षक दत्तात्रेय शिंदे और उप-मंडल पुलिस अधिकारी नित्यानंद झा के मार्गदर्शन में स्टेशन के पीएसआई योगेश खोंडे और उनके टीम एक साल से अधिक समय से इस मामले की अथक जांच कर रही है ।
उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में छिपे रहने के आरोपी राकेश कुमार करन और सविता करन को स्थानीय पुलिस की मदद से गिरफ्तार किया गया और बोईसर लाया गया और पालघर अदालत में पेश किया गया, जहां उन्हें आगे की पूछताछ के लिए पांच दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया गया.
मामले की जांच कर रहे पुलिस निरीक्षक सुरेश कदम, सपोनी सुरेश सालुंके और पीएसआई योगेश खोंडे और उनकी टीम कुशल तकनीकी जांच के माध्यम से आरोपी को गिरफ्तार करने में कामयाब रहे।

यह न्यूज जरूर पढे