एक ऐसा ठग जिसने ताजमहल,लालकिला ही नही संसद भवन तक बेच दिया था

by | Jan 18, 2022 | उत्तर प्रदेश, देश/विदेश, लखनऊ

शिवशंकर शुक्ल

लखनऊ / एक ऐसा ठग जिसने लाल किला, ताजमहल , राष्ट्रपति भवन ही नही भारत के संसद भवन को भी बेच दिया था,जिसे लोग ठग सम्राट नटवरलाल के नाम से जानते थे।
इनका असली नाम मिथिलेश कुमार श्रीवास्तव था। बिहार राज्य के सिवान जिले में स्थित बंगरा गांव निवासी एक सम्पन्न परिवार का रहनेवाला यह ठग मैट्रिक की पढ़ाई में फेल होने से अपने पिता से मार खाने के कारण कोलकत्ता भाग गया, और वही से ठगी करने की शुरुवात की।बतादे की 75 के दशक में ही कई उद्योगपतियों को निशाना बना ठगी को अंजाम दिया । यहां तक कि देह व्यापार करने वाली महिलाओं तक को नही छोड़ा उनके गहने व नकदी लूट लिया।ज्ञात हो कि इस ठग नटवरलाल ने , टाटा बिड़ला जैसे कई उद्योग पतियों को भी ठगा इतना ही नही राष्ट्रपति भवन को एकबार, लालकिला को 2 बार , 3 बार ताजमहल को भी बेच दिया था इसके अलावा एकबार इसने संसद भवन तक को नही बक्शा उसे भी बेच दिया। प्रथम राष्ट्रपति राजेन्द्र प्रसाद के हस्ताक्षर की नकल कर लिया था। इतना बड़ा शातिर दिमांग का ठग था। इस ठग मिथिलेश कुमार श्रीवास्तव उर्फ नटवरलाल के विरुद्ध विभिन्य राज्यो में सैकड़ो ठगी के मामले उस समय दर्ज किए गए, कई बार पकड़ा भी गया लेकिन पुलिस की आंखों में धूल झोंक फरार हो जाता।आखिरी बार जब पुलिस की गिरफ्त में आया तो वह 84 वर्ष का था। अदालत ने 113 वर्ष की सजा सुनाई थी, 24 जून 1996 को बीमारी का बहाना बनाया जब पुलिस एम्स अस्पताल लेजारही थी उसी समय मौका देख पुनः फरार होगया जिसे पुलिस आज तक पता नही लगा पायी।

यह न्यूज जरूर पढे