बाबा परमान तिवारी का ऐतिहासिक खिचड़ी मेला स्थगित

by | Jan 13, 2022 | उत्तर प्रदेश, रायबरेली


कामता नाथ सिंह
नसीराबाद,रायबरेली। जिले के पूर्वी छोर पर अमेठी और प्रतापगढ़ जनपदों की सीमाओं के नज़दीक स्थित सलोन तहसील के बभनपुर गाँव में बाबा परमान तिवारी धाम पर 14 जनवरी को लगने वाला विशाल खिचड़ी का मेला इस साल भी नहीं लग सकेगा।
ऐसा दूसरी बार हो रहा है जब कोविड प्रोटोकॉल के तहत लगभग दो महीने तक चलने वाले खिचड़ी के मेले को प्रशासनिक अनुमति नहीं मिल सकी। ऐसे में जहाँ व्यवस्थापक मज़बूर हैं वहीं व्यापारी मायूस। इसी मेले की कमाई से सालभर का पारिवारिक खर्च निकालने वाले स्थानीय दूकानदार हताश हैं। लगातार दूसरी बार यह मेला कोरोना की भेंट चढ़जाने से कई परिवार भुखमरी की कगार पर पहुँच गये हैं। कई जिलों में लगने वाले मेलों में यह सबसे बड़ा मेला है जो मकर संक्रांति के पर्व पर लगभग डेढ़ महीने तक गुलजार रहता है और लकड़ी तथा पशुओं के व्यापारी दो माह तक टिके रहते हैं।


बाबा परमान तिवारी धाम सैकड़ों सालों से आस्था का केन्द्र बना हुआ है, जहाँ दूर-दूर से श्रद्धालु अपनी मनोकामना पूरी करने और न्याय के लिए आते हैं।
200 सालों से भी अधिक पुराना यह मेला क्षेत्रीय जरूरतों को पूरा करता है। मौजूदा ग्राम प्रधान की देख रेख में अनवरत लगने वाले विशाल मेले और अन्तर्प्रान्तीय कुश्ती प्रतियोगिता का आयोजन सदैव सार्वजनिक सहयोग से होता रहा किन्तु समय के साथ व्यापारियों से वसूली भी की जाने लगी।


जिसके कारण कानपुर, लखनऊ, इलाहाबाद, कलकत्ता, अयोध्या धाम आदि शहरों से आने वाली दूकानों में कमी आई। बावजूद इसके मेला निरन्तर बढ़ता गया किन्तु 2021 से कोविड ने इसे भी निगल रखा है। कुल मिलाकर प्रशासनिक अनुमति न मिलने के कारण मेले से सम्बंधित सारे कार्यक्रम स्थगित कर दिये गये हैं।

यह न्यूज जरूर पढे