जीवन की सार्थकता स्वाध्याय से ही संभव-भवानी शंकर उपाध्याय

by | Dec 26, 2021 | उत्तर प्रदेश, रायबरेली


डॉ. कामता नाथ सिंह
नसीराबाद, रायबरेली।सांस्कृतिक,साहित्यिक और आध्यात्मिक उन्नयन के लिये वर्षों से क्षेत्र में प्रयासरत मानस मंथन समिति का विधिवत् गठन किया गया।
प्रतापगढ़ जनपद के ब्लॉक सांँगीपुर स्थित ग्राम पंचायत मुरैनी पूरे सिकंदर में आयोजित मानस-मंथन के कार्यक्रम में संचालक पं० भवानी शंकर उपाध्याय ने पूर्व निर्धारित विषय “स्वाध्याय” पर चर्चा करते हुए कहा कि स्वाध्याय से ही जीवन की सार्थकता संभव है। समाज के हर व्यक्ति को अपने बच्चों में स्वाध्याय के प्रति लगन पैदा करने के लिए वातावरण सृजित करना चाहिए।
उपस्थित सदस्यों की सहमति से बहुप्रतीक्षित मानस-मंथन समिति का विधिवत गठन किया गया। सर्वसम्मति से शिक्षाविद पंडित भवानी शंकर उपाध्याय को अध्यक्ष मनोनीत करते हुए उन्हें अधिकृत किया गया कि वे समिति के अन्य पदाधिकारियों का मनोनयन करें।
नवनिर्वाचित अध्यक्ष श्री उपाध्याय ने समिति के अन्य पदाधिकारियों का मनोनयन करते हुए मनो विश्राम मिश्र को उपाध्यक्ष, यज्ञ नारायण सिंह को प्रबंधक/सचिव, अर्जुन सिंह को उप सचिव, शंकर लाल मोदनवाल को कोषाध्यक्ष एवं कृष्ण नारायण लाल श्रीवास्तव को आय-व्यय निरीक्षक घोषित किया।
इसी क्रम में जंत्री प्रसाद पाण्डेय, परशुराम उपाध्याय सुमन, महाबीर सिंह, आत्म प्रकाश उपाध्याय एवं बी० एल० साहू को कार्यकारिणी सदस्य नामित किया गया।
इसी अवसर पर यह निर्णय भी लिया गया कि मानस-मंथन की आगामी बैठक कृष्ण नारायण लाल श्रीवास्तव के ग्राम उदयपुर स्थित निवास पर आगामी 30 जनवरी, 2022 रविवार को प्रातः 10:00 बजे से प्रारम्भ होगी जिसमें “शिष्टाचार” विषय पर विचार प्रस्तुत किए जायेंगे। बैठक में पंडित भवानी शंकर उपाध्याय, मनो विश्राम मिश्र, यज्ञ नारायण सिंह, अर्जुन सिंह, कृष्ण नारायण लाल श्रीवास्तव, शंकरलाल मोदनवाल आदि विशेष रूप से उपस्थित रहे।

यह न्यूज जरूर पढे