भगवती चरण वर्मा के उपन्यास साहित्य की अनुपम उपलब्धि- डॉ. शक्तिधर नाथ पांडेय

by | Dec 25, 2021 | उत्तर प्रदेश, रायबरेली

कामतानाथ सिंह


नसीराबाद, रायबरेली।साहित्यिक संस्था स्वतंत्र कवि मंडल सांँगीपुर के तत्वावधान में वरिष्ठ साहित्यकार गुरुबचन सिंह ‘बाघ’ के संयोजन में पुस्तक-विमोचन समारोह एवं कवि सम्मेलन का आयोजन प्रतापगढ़ जिले केग्राम हुसैन पुर, लालगंज में किया गया।
शिक्षाविद पंडित भवानी शंकर उपाध्याय ने कार्यक्रम की अध्यक्षता की। डॉ.शक्तिधर नाथ पाण्डेय के मुख्य आतिथ्य में मंडल के महामंत्री डॉ.अजित शुक्ल द्वारा भगवती चरण वर्मा के उपन्यासों में भारतीय जीवन के विविध आयाम पर लिखी समीक्षात्मक कृति का ऐतिहासिक विमोचन संपन्न हुआ।
समीक्षात्मक कृति के लेखक डा.अजित शुक्ल को बधाई देते हुए मुख्य अतिथि डॉ. शक्तिधर नाथ पांडेय ने कहा कि मुंशी प्रेमचंद्र के बाद भगवती चरण वर्मा के उपन्यास, साहित्य की अद्वितीय उपलब्धि हैं। स्वतंत्र कवि मंडल सांँगीपुर सामाजिक जागृति के लिए सदैव याद किया जाएगा।
अध्यक्षीय उद्बोधन में पंडित भवानी शंकर उपाध्याय ने कहा कि बिना अध्ययन के ज्ञान संभव नहीं है। हमें बच्चों को सत्साहित्य पढ़ाना चाहिए।
बयोबृद्ध सामाजिक चिंतक मनोविश्राम मिश्र ने इस साहित्यिक अभियान को और आगे बढ़ाने पर बल दिया।
वरिष्ठ अधिवक्ता ज्ञान प्रकाश शुक्ला ने कहा कि कवियों ने देश की एकता व अखंडता के लिए सदैव अमूल्य योगदान दिया है।
स्वतंत्र कवि मंडल के संरक्षक यज्ञ नारायण सिंह, अध्यक्ष अर्जुन सिंह, कार्यकारी अध्यक्ष डॉ.केसरी नंदन शुक्ल, वरिष्ठ साहित्यकार परशुराम उपाध्याय सुमन, श्रीमती संध्या सिंह आदि ने भी उपस्थित साहित्यप्रेमियों को सम्बोधित किया।
इस अवसर पर शिक्षक आनंद बहादुर सिंह, तुंग नाथ शुक्ल एवं चिकित्सक डॉक्टर पुरुषोत्तम शुक्ल सहित आचार्य अनीश देहाती एवं चंद्रपाल त्रिपाठी गुब्बारा आदि रचनाकारों को अंगवस्त्र एवं माला भेंट कर सम्मानित किया गया।
कवि सम्मेलन के क्रम में अशोक विमल डॉ एस पी सिंह शैल, चंद्रशेखर मित्र, सुरेश अकेला, रामजी मौर्य, कृष्ण नारायण लाल श्रीवास्तव, राम लखन यादव आशीष राजकुमार सिंह रघुनाथ यादव, रवि शंकर मिश्र नागेश्वर प्रसाद द्विवेदी, नितेश यादव जन्नत, बाबूलाल सरल, छात्रा अंजली सिंह अनूप पांडेय, अनूप त्रिपाठी, फैयाज अहमद परवाना, चंद्रपाल त्रिपाठी गुब्बारा, आचार्य अनीश देहाती, गुरुबचन सिंह बाघ आदि कवियों ने विविध रचनाएं पढ़ कर कार्यक्रम को ऊंँचाइयांँ प्रदान कीं।
इस अवसर पर राजेंद्र बहादुर सिंह, कालिका प्रसाद पांडेय एडवोकेट, देवेंद्र प्रकाश सिंह, अभिनव प्रताप सिंह, रंग बहादुर सिंह, हरिश्चंद्र अग्रवाल, नवीन कुमार शुक्ल, डॉ संतोष कुमार सिंह, शिक्षक नेता रामचंद्र सिंह, पंडित मनोकानिका उपाध्याय, अनिल कुमार सिंह आदि की उपस्थिति उल्लेखनीय रही।
अंत में राष्ट्रगान के साथ कार्यक्रम का समापन हुआ।

यह न्यूज जरूर पढे