इतिहास में सबसे बड़ी वसूली, छापेमारी के बाद जब्त नोटों के बंडल ले जाने के लिए मंगाना पड़ा ट्रक

by | Dec 25, 2021 | उत्तर प्रदेश, लखनऊ

कानपुर: सपा नेताओं पर छापेमारी के बाद गुरुवार को कानपुर के इत्र कारोबारी के घर पर छापेमारी की गई और वहां जो हुआ उसे देखकर आयकर विभाग की टीम भी हैरान हो गई.

कानपुर के एक कारोबारी पीयूष जैन के घर से करीब 150 करोड़ रुपये बरामद हुए हैं जिनकी गिनती अब खत्म हो गई है. नोटों के बंडलों की गड्डी इतनी थीं कि छापे मारने पहुंचे अधिकारी गिनते-गिनते थक गए और 15 मशीनें मंगवानी पड़ीं. केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड के अध्यक्ष विवेक जौहरी के अनुसार, छापेमारी में लगभग 150 करोड़ रुपये जब्त किए गए हैं.  

विभाग के मुताबिक जानकारी मिली थी कि गोयल की कंपनी त्रिमूर्ति फ्रेग्रेन्स बिना इनवॉयस या टैक्स भुगतान के काम कर रही थी. इसके बाद उनके 3 ठिकानों की तलाशी ली गई और लगभग 150 करोड़ रुपये नकद बरामद हुए. सीबीआईसी के इतिहास में यह अब तक की सबसे बड़ी वसूली है, हालांकि अभी तक इस केस में कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है. इतनी बड़ी रिकवरी के बाद विभाग के रकम ले जाने के लिए 25 बॉक्स मंगाने पड़े जिन्हें ट्रक में लादकर ले जाया गया है.

छापेमारी के मामले में जीएसटी इंटेलिजेंस की ओर से एक प्रेस नोट जारी किया गया है. इसमें बताया गया कि 22 दिसंबर को त्रिमूर्ति फ्रेग्रेन्स लिमिटेड में छापेमारी की गई थी. यही कंपनी शिखर ब्रांड से पान मसाला बनाती है और कंपनी के ऑफिस, गोदाम और ट्रांसपोर्ट नगर में छापे मारे गए थे. इन पर फर्जी कंपनियों के नाम पर टैक्स इनवॉइस जारी करने का आरोप था.

यह न्यूज जरूर पढे