सीएम मनोहर लाल खट्टर का रुख सख्त, कहा-खुले में नमाज पढ़ना बर्दाश्त नहीं,37 खुले स्थानों पर नमाज़ पढ़ने की दी गई अनुमति भी वापस ली गयी

by | Dec 10, 2021 | देश/विदेश

हेडलाइंस18

गुरुग्राम में अब सार्वजनिक जगहों पर नमाज नहीं होगी. इसके लिए आदेश पहले ही आ चुके हैं. आज यानि शुक्रवार को जुमे की नमाज होती है. इसे लेकर 3 महीने से दोनों पक्षों में विवाद चल रहा था. अब इसे लेकर मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कड़ा रुख दिखाया है.

CM खट्टर ने साफ शब्दों में कहा है कि “खुले में नमाज नहीं होनी चाहिए. कोई अगर अपनी जगह पर नमाज पढ़ता है, पाठ पढ़ता है उसमें हमें कोई दिक़्क़त नहीं है. सीएम मनोहर लाल खट्टर ने कहा कि हमने जिन 37 स्थानों को खुले में नमाज के लिए चिन्हित किया था उन तमाम स्थानों की परमिशन को रद्द कर दिया गया है. नमाज़ को लेकर तनाव नहीं होने दिया जाएगा.गौरतलब रहे 2018 में खुले में नमाज़ के विरोध के बाद जिला प्रशासन ने दोनों पक्षो को सहमति के बाद 37 स्थानों पर खुले में नमाज़ की सहमति की थी, जिन्हें अब मुख्यमंत्री के आदेशों के बाद वापस ले लिया गया है

2018 में शुरू हुआ था खुले में नमाज का विरोध 

गुरुग्राम में सबसे पहले खुले में नमाज का 2018 में विरोध शुरू हुआ था, जो कुछ समय के लिए तो शांत हुआ, लेकिन अब फिर से खुले में नमाज का विरोध शुरू हो गया. सीएम खट्टर की माने तो खुले में नमाज को लेकर कहा की नमाज़ या कोई भी पूजा धार्मिक स्थानों में ही कि जानी चाहिए. सीएम खट्टर ने जिला प्रशासन को आदेश दिए कि मुस्लिम काउंसिल के साथ बैठ वक्फ बोर्ड की जमीनों पर नमाज़ पढ़ी जाए, ऐसी व्यवस्था करने की कोशिश करें.

यह न्यूज जरूर पढे