वसई-विरार में शिवसैनिकों को देंगे ताकत-पालक मंत्री दादाजी भूसे

by | Oct 16, 2021 | पालघर, महाराष्ट्र, वसई विरार

हेडलाइंस18

विरार. वसई-विरार के शिव सैनिक ईमानदार और पार्टी को लेकर वफादार भी हैं। वह हमेशा अच्छे और बुरे दोनों मौकों पर शिवसेना के साथ रहे हैं। इसलिए हम शिवसेना के माध्यम से सबसे युवा शिवसैनिकों को शक्ति और प्रेरणा देने का काम करेंगे। हम उनके साथ रहने के लिए काम करेंगे, पालक मंत्री दादाजी भूसे ने शिवसैनिकों को आश्वासन दिया। यह जानकारी शनिवार को शिवसेना युवा नेता पंकज देशमुख ने दी है। शिवसेना विधायक और पालघर संपर्क प्रमुख रवींद्र फाटक के संकल्प प्रतिष्ठान के ‘दुर्गोत्सव’ में हाल ही में कृषि मंत्री और पालघर जिला पालक मंत्री दादाजी भूसे ने दौरा किया था। दादाजी भूसे ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और शहरी विकास मंत्री एवं शिवसेना नेता एकनाथ शिंदे द्वारा आयोजित ‘महाराष्ट्रदान’ शिविर के आदेश पर अनौपचारिक संवाद के दौरान वसई-विरार और पालघर-बोईसर जिलों के शिवसैनिकों की सराहना की। इस रक्तदान शिविर में वसई-विरार और पालघर-बोईसर जिलों के शिवसैनिकों ने स्वेच्छा से रक्तदान किया है. दादाजी भुसे ने कहा कि, शिवसेना के साथ रक्तपात के बिना यह संभव नहीं है। वसई-विरार मनपा के आगामी चुनाव के दौरान रणनीतिक निर्णय समय पर लिए जाएंगे। जरूरी बदलाव किए जाएंगे। लेकिन भविष्य को देखते हुए रणनीति तय की जाएगी। यदि आप जीतना चाहते हैं, तो आपको एक रणनीति बनानी होगी। अगर यह लेबल है तो यह काम नहीं करता है। यह कहते हुए कि मीडिया को इतना हंगामा नहीं करना चाहिए, उन्होंने संकेत दिया कि शिवसेना की घुड़दौड़ तेज गति से जारी रहेगी। इस अवसर पर अभिभावक मंत्री दादाजी भूसे ने विधायक रवींद्र फाटक, शिवसेना के युवा नेता पंकज देशमुख, अन्य गणमान्य व्यक्तियों और मीडिया प्रतिनिधियों से भी अन्य मुद्दों पर बातचीत की।

पालघर है विकास का केंद्र बिंदु
पालघर जिला महाविकास अघाड़ी के विकास का केंद्र बिंदु है। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने अगस्त में लोकापर्ण समारोह के अवसर पर पालघर जिला कार्यालय का उद्घाटन किया। तब से लेकर अब तक पालघर जिले के विकास के लिए सरकार ने कई रणनीतिक फैसले लिए हैं। दादाजी भूसे ने कहा कि कृषि मंत्री और जिले के पालक मंत्री के रूप में उन्होंने मंत्रालय की हालिया समीक्षा बैठक में कई सुझाव दिए थे। इस संबंध में वन सीमाओं से गुजरने वाली हाई वोल्टेज बिजली लाइनों के लिए दहानू और जव्हार सबस्टेशन परियोजनाओं के लिए अनुमति प्राप्त करने के लिए शीघ्र कार्रवाई की जानी चाहिए। वसई-विरार के चार गांवों और दहानू में एक गांव में बिजली वितरण को मंजूरी देकर आदिवासी क्षेत्रों में शत-प्रतिशत बिजली उपलब्ध कराने का लक्ष्य हासिल किया जाए। दादाजी भूसे ने बताया कि, आदिवासी बहुल क्षेत्र के विकास को गति देने के उद्देश्य से संबंधित विभागों को कार्य तत्काल पूरा करने के निर्देश दिये गये हैं।

यह न्यूज जरूर पढे