मनरेगा में हुई धांधली को दबाने के लिए उच्चाधिकारियों पर रिश्वत लेने का आरोप

by | Sep 30, 2021 | उत्तर प्रदेश, मिर्जापुर

शिवशंकर शुक्ल
मिर्जापुर : विकास खण्ड छानबे अंतर्गत बौंता विशेषर सिंह ग्राम सभा में हुए आवास व शौचालय, के अलावा मनरेगा में हुए धांधली को दबाने हेतु उच्चाधिकारियो पर रिश्वत लेने का आरोप। उक्त ग्रामसभा के  सचिव धीरेंद्र गुप्ता व पुर्व  ग्राम प्रधान कृष्णावती देवी पर मनरेगा में काम करने वालो की  मजदूरी  हड़प लेने का आरोप भुक्तभोगी मजदूरों ने लगाया है।
जानकारी के अनुसार इस गांव मे बनी सामुदायिक शौचालय में चार माह तक काम करने वाले प्रेमलाल  बिन्द की मजदूरी आज तक नही मिली इनके अलावा  दसवंती बिन्द नामक महिला की 10 दिनों की व कलुई बिंद की 16 दिनों की मजदूरी, अनिल कुमार की 10 दिनों की ,शारदा  बिंद के अलावा  शिवशंकर बिन्द की 12 दिनों की मजदूरी का भुगतान नही किया गया। भुक्तभोगियों ने आरोप लगाया है कि बार बार मांगने के बावजूद अभी तक मजदूरी नही मिली वरिष्ठ अधिकारियों से शिकायत कर के हार गए, कोई सुनवाई नही होती है जो ग्राम सचिव चाहते है वही होता है।

बतादे की  मिर्जापुर जिले में किसी भी विभाग में शिकायत पत्रों की रिसीविंग नही दी जाती है इसका मुख्य कारण यह बताया जाता है कि रिश्वत लेने के बाद शिकायत करता की शिकायत की प्रति को गायब कर सके ताकि वह यह सबित न कर सके कि शिकायत पत्र दिया है। ग्रामीणों  ने नाराजगी ब्यक्त करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री ने कहा था। भ्र्ष्टाचार मुक्त करेगे और न खाएंगे न खाने देगे ।यह उल्टा हो रहा है ।अधिकारी जम कर लूट खा रहे है ।कोई नही खा पा रहा है ।आम आदमी प्रतिदिन मजदूरी कर अपनी आजीविका चलाने वाला।  सम्बंधित विभागीय सूत्रों की माने तो वरिष्ठ अधिकारियों के घर का खर्चा भी। सचिवो व प्रधानों द्वारा दी जारही नजराने से चलता है। यही कारण है कि इनकी धांधली की ईमानदारी पूर्ण जाँच नही होती है।

यह न्यूज जरूर पढे