महिलाओं के लिए असुरक्षित वसई-विरार-मीरा-भायंदर शहर,बढ़ते अपराध के आंकड़ों ने उड़ाए सबके होश

by | Sep 17, 2021 | देश/विदेश, पालघर, महाराष्ट्र, मुंबई, वसई विरार

हेडलाइंस18

मुंबई के साकीनाका इलाके में एक महिला के साथ हुए क्रूरता अपराध ने पूरे देश को हिला कर रख दिया। जिसके बाद खुद मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने पुलिस अधिकारियों को महिलाओं की सुरक्षा में सख्त कदम उठाने के आदेश दिए है। ऐसे में उपनगर वसई-विरार-मीरा-भायंदर क्षेत्र में महिलाओं के खिलाफ हिंसा और अपराध के आकड़ो में बढ़ोत्तरी चिंता बढ़ा रहे है।आंकड़े बताते हैं कि महिलाओं के साथ बलात्कार से लेकर छेड़खानी तक के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। 

पुलिस के आंकड़े ही इस बात की तस्दीक कर रहे हैं हैं कि क्षेत्र में महिलाओं के खिलाफ अपराधों की दर लगातार बढ़ रही है। हालंकि, सरकार और पुलिस महकमा दावे जरूर कर रहा है, लेकिन आंकड़ों के पीछे जो भयानक मंजर है, वो तो जस का तस है। कमिश्नरेट के अतर्गत 13 पुलिस स्टेशन में हर महीने महिलाओं के खिलाफ यौन उत्पीड़न (बलात्कार) के औसतन 34 मामले दर्ज होते हैं, जबकि छेड़छाड़ के करीब 39 मामले दर्ज किए जाते हैं। 

इस साल जनवरी से अगस्त तक, कमिश्नरेट के 13 पुलिस स्टेशनों में कुल 277 बलात्कार के मामले दर्ज किए गए। हालांकि पुलिस सभी मामलों में आरोपियों को सलाखों के पीछे भेजने में कामयाब रही। इसी तरह छेड़छाड़ के कुल 319 मामले दर्ज किए गए और पुलिस इनमें से 305 अपराधों को सुलझाने में सफल रही है। खासकर पुलिस ने साल 2020 में दर्ज हुए सभी 260 रेप के मामलों को सुलझाने में सफलता हासिल की है। पिछले साल चालू वर्ष की तुलना में बलात्कार के मामले कम थे, लेकिन 2020 में छेड़छाड़ के 462 मामले सामने आए। इनमें से 433 मामलों को पुलिस ने सुलझा लिया है।


मीरा-भायंदर-वसई-विरार के पुलिस आयुक्त सदानंद दाते ने सभी पुलिस अधिकारियों और कर्मचारियों को महिलाओं से संबंधित शिकायतों का त्वरित और संवेदनशील तरीके से समाधान करने का निर्देश दिया है।
विजयकांत सागर-डीसीपी पुलिस उपायुक्त (मुख्यालय)

यह न्यूज जरूर पढे