राष्ट्रभाषा’ विशेषांक लोकार्पण संपन्न

by | Sep 15, 2021 | महाराष्ट्र, मुंबई

धर्मेन्द्र उपाध्याय

मुंबई – गांधीजी द्वारा स्थापित इस संस्था का दूर-दूर तक नाम है। राष्ट्रभाषा हिंदी को बढ़ावा देने हेतु संसद में हमारी सांसद मित्रों के साथ चर्चाएं होती रहती है। वे भी राष्ट्रभाषा हिन्दी को योग्य सम्मान दिलाने के पक्ष में है। यह संस्था बहुत बड़ी है। देश-विदेश में इस संस्था का नाम है। आखिर यह महात्माजी की धरोहर है। हमारा देश हिन्दी को बखूबी जानता है। इस संस्था को आगे ले जाना है। संस्था ने कोरोना काल में अच्छा कार्य किया है। प्रो. अनन्तराम त्रिपाठी जी अपने जीवनान्तक हिंदी की सेवा की है, राष्ट्रभाषा की सेवा की है। वे निःस्वार्थ आदमी थे। राष्ट्रभाषा का जो पेड त्रिपाठी जी ने लगाया है उसे हमें और आगे बढ़ाना है। श्री. त्रिपाठी मुंबई के. जे. सोमय्या में प्रोफेसर रहे। मुंबई, ठाणे के बाद अपना पूर्ण जीवन राष्ट्रभाषा के लिए समर्पित किया। उक्त विचार वर्धा लोकसभा के सांसद रामदास तडस ने व्यक्त किए। वे राष्ट्रभाषा प्रचार समिति, वर्धा के प्रो. अनन्तराम त्रिपाठी ‘राष्ट्रभाषा’ विशेषांक के लोकार्पण समारोह में बोल रहे थे।

समारोह के अध्यक्ष नवरतन नाहर ने सभी के प्रति धन्यवाद व्यक्त करते हुए कहा कि त्रिपाठी जी दृढ़ मतवादी थे। उन्होंने जो ठान लिया वे करते ही थे। वे सच्चाई के मार्ग पर चलने वाले इन्सान थे। वे संविधान के अनुसार चलते थे, कोई भी असंवैधानिक कार्य उन्होंने नहीं किया। वे निडर थे। वे हरदम राष्ट्रभाषा की भलाई का ही विचार मन में रखते थे। वे अकेले रहे लेकिन सच्चाई की लड़ाई नहीं छोड़ी। उनके दिखाए मार्ग पर चलने का हमें प्रयास करना चाहिए।

अतिथियों के हाथों दीप प्रज्वलन किया गया। समारोह में मंचस्थ थे – रा. प्र. समिती के कार्यकारिणी सदस्य जगदीशबाबू पोद्दार, रा.प्र.समिति वर्धार् के सहायक मंत्री डा. हेमचंद्र वैद्य, सांसद रामदास तडस, समिति के प्रचार मंत्री महेश अग्रवाल, कोषाध्यक्ष नवरतन नाहर और परीक्षा मंत्री प्रकाश बाभले। महेश अग्रवाल ने प्रमुख अतिथि रामदास तडस का शाल, पुष्पगुच्छ देकर स्वागत किया। समारोह के अध्यक्ष नवरतन नाहर का परीक्षा मंत्री प्रकाश बाभले ने पुष्पगुच्छ देकर स्वागत किया। प्रमुख अतिथियों के हाथों ‘राष्ट्रभाषा’ के प्रो. अनन्तराम त्रिपाठी स्मृति विशेषांक का लोकार्पण किया। प्रास्ताविक में सहायक मंत्री डा. हेमचंद्र वैद्य ने कहा कि हम त्रिपाठी जी की उपस्थिति आज भी अनुभव करते हैं। वे हमें प्रेरणा देते रहते हैं। उन्होंने हमें कार्य करते रहने की प्रेरणा दी है।

कार्यक्रम का सुचारू संचालन मनीष जालान तथा समिति के प्रचार मंत्री महेश अग्रवाल ने आभार व्यक्त किए । समारोह में राष्ट्रभाषा प्रचार समिति के पदाधिकारी, अधिकारी, कार्यकर्ता, कार्यसमिति के सदस्य नागपुर के बंडु रक्षक, दिलीप दुबे, नगरसेवक निलेश खोंड, राठी सर, आनंद शुक्ला और गणमान्य नागरिक उपस्थित थे। राष्ट्रगीत के साथ समारोह संपन्न हुआ।

यह न्यूज जरूर पढे