श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर गायत्री परिवार की अनोखी पहल-राष्ट्रीय तरूपुत्र रोपण अभियान

by | Aug 29, 2021 | ठाणे

धर्मेन्द्र उपाध्याय
अखिल विश्व गायत्री परिवार के मुख्यालय शांतिकुंज हरिद्वार से राष्ट्रीय स्तर पर एक साथ देश की लगभग पाँच लाख शाखाओं में सामूहिक वृक्षारोपण तरूपुत्र रोपण महायज्ञ संपन्न किया जा रहा है। इस पूरी प्रक्रिया में वृक्ष को अपना सगा-संबंधी या पुत्र मानकर पवित्र भाव से वृक्षारोपण करने का संदेश निहित है। इसी के साथ शांतिकुंज स्वर्ण जयंती वनों की स्थापना एवं घरेलु शाक वाटिकाओं का विधिवत् शुभारंभ शांतिकुंज तीर्थ से गायत्री परिवार के प्रमुख, अखंड ज्योति पत्रिका के संपादक युग मनीषि डॉ. प्रणव पंड्या जी के द्वारा किया जा रहा है।
हमारे वैदिक ग्रंथों में पर्यावरण के विभिन्न घटक वनस्पति, वृक्ष, जल, वायु एवं जीव जगत के पारिस्थितिकी का अनेक स्थानों पर वर्णन आया है। ऋषियों के आश्रम तो निकुंजों मे हुआ करते थे। वे पौधों और पर्यावरण से आत्मीयता रखते थे। परमात्मा को समर्पित करने वाली वस्तुओं में प्रकृति के घटक ही हुआ करते है। प्रकृति की इन्हीं विभिन्न शक्ति धाराओं को ही उन्होंने देवता के नाम से अभिहित, सम्मानित किया है। प्राचीन सभ्यताओं और संसार के प्रत्येक धर्म दर्शन में यह प्रकृति पूजा आज भी प्रचलित है। युनानी पाश्चात्य दार्शनिक थेलिज जल को, अनेक्सीमीनिज वायु को तथा हेराक्लिट्स अग्नि को परम तत्व मानकर अपने दार्शनिक विचारों का प्रतिपादन करते थे। आज नैतिक मूल्यों को दरकिनार किया गया है, इसीलिये पर्यावरण विकराल समस्या बनकर विश्व के समक्ष जीवन मृत्यु का प्रश्न बनकर खड़ा है।
विश्व स्तर पर हो रहे परिवर्तनों, चुनौतियों पर संयुक्त राष्ट्र संघ के अनेकानेक कार्यक्रम तथा जीईओ की रिपोर्ट चिंतित करती है। इसमें बताया गया है कि धरती पर होने वाले ऐसे बदलाव से बचना जरूरी है क्योंकि इस सीमा के बाद धरती पर विविधता पूर्ण जीवन को विकसित करने वाली स्थितियाँ सदा के लिये बदल सकती है। गेरार्डो, पाल आर एहरलिच व उनके वैज्ञानिको का एक चर्चित अध्ययन दर्शाता है कि सौं वर्षो में दस हजार प्रजातियों मे से दो स्तनधारी लुप्त हो जाये तो यह सामान्य स्थिति है, लेकिन इस सामान्य गति से आगे बढ़कर पिछली शताब्दी में रीढ़ की हड्डी वाले जीवों के लुप्त हो जाने की दर सौं गुनी अधिक पायी गयी है। मानव इतिहास, सभ्यता एवं संस्कृति में यह प्रजातियों के लुप्त हो जाने का सबसे बढ़ा दौर है। यही स्थिति रही तो मानव जाति को चिर संचित पर्यावरण के असंतुलन के भयावह दुष्परिणाम भुगतने पड़ेंगे।
हमारे भारतीय दर्शन की मान्यता है कि पर्यावरण, जीव जगत और मानव समुदाय परस्पर गहरे में गुथा हुआ है। एक की क्षति से दूसरा प्रभावित हुये बिना रह नहीं सकता। यदि पर्यावरण स्वच्छ सकारात्मक, प्रेरणादायी और प्राण तत्व से भरपूर रहा तो हमारे संपूर्ण अस्तित्व की इकाईयाँ भी स्वस्थ तथा तनाव मुक्त रहेगी। शांतिपाठ का नैतिक मूल्य ईकॉलॉजी के समग्र संवर्धन एवं विकास का परिचायक है। भोगवादी संस्कृति के अनियंत्रित दोहन के प्रवाह को सीमित करने की आवश्यकता पड़ेगी। प्रौद्योगिकी एवं विज्ञान ने जहाँ एक ओर सुविधा साधन दिए है। वही अधिक उत्पादन के लिए कीटनाशकों, कारखानों का जहरीला धुआँ, युद्धों का अणु विकिरण प्लास्टिक का बेहिसाब प्रचलन लगातार बढ़ता तापमान, अंधाधुंध कटते वृक्ष, सीमेंट और कांक्रीट के बढ़ते जंगल, नदियों में बहाये प्रदुषक आदि सबके पीछे प्रकृति के घटकों को नुकसान पहुँचाकर अर्जित प्रगति मंहगी पड़ रही है। इन दिनो पर्यावरण के तीन संदर्भ-जलवायु बदलाव, जैव विविधता और बायोस्फियर मे नाइट्रोजन की वृद्धि प्रमुख है।
समाधान प्रकृति के नैतिक मूल्यों का संरक्षण करने मे नीहित है। वह हमारी माता है। वह हमारा पोषण करने मे समर्थ है। हमारा प्रकृति के साथ माता-पुत्र का संवेदनात्मक संबंध होना चाहिए। वर्तमान का भौतिकवादी जीवन दर्शन प्रत्यक्षवाद और चिर-संचित पदार्थ संपदा के नियोजन एवं दोहन के लिये तत्पर है जिसमें भावना, संवेदना, सर्वहित एवं विवेक जैसे नैतिक मूल्यों का समावेश पर्यावरण की चुनौंतियों का पूर्णतः समाधान देने की भूमिका अदा कर सकता है। हमे इस जन्माष्टमी के अवसर पर इसी आत्मीय भाव से एक वृक्ष लगाकर पर्यावरण के इस विराट अभियान में अपना सक्रिय योगदान देना चाहिये।

यह न्यूज जरूर पढे 

डोंबिवली MIDC के डाकघर में होगा पासपोर्ट सेवा केंद्र शुरू

डोंबिवली MIDC के डाकघर में होगा पासपोर्ट सेवा केंद्र शुरू

मिथिलेश गुप्ताडोंबिवली : कल्याण लोकसभा का प्रतिनिधित्व करने वाले सांसद डॉ. 2017 से श्रीकांत शिंदे के प्रयास के बाद डोंबिवली MIDC के डाकघर पासपोर्ट सेवा केंद्र शुरू करने की मंजूरी मिल गई और इस केंद्र को जल्द से जल्द शुरू किया जाए। जगह की कमी के कारण पासपोर्ट सेवा...

उल्हासनगर शहर में चोरों का आतंक, विक्की वाईन्स की दुकान में की चोरी,घटना सीसीटीवी में कैद

उल्हासनगर शहर में चोरों का आतंक, विक्की वाईन्स की दुकान में की चोरी,घटना सीसीटीवी में कैद

मिथिलेश गुप्ताउल्हासनगर : उल्हासनगर शहर में चोरी, चैन स्नेचिंग, दुकान में चोरी, बाइक चोरी जैसे अपराधिक मामले दिन प्रतिदिन बढते ही जा रहे है. जिससे उल्हासनगर शहर में अपराधियों के हौसले बुलंद हैं तो पुलिस इन अपराधियों पर नकेल कसने में नाकामयाब हुई हैं. ऐसा ही एक मामला...

म्हात्रेवाड़ी क्षेत्र में त्रिभुवन ज्योत इमारत के खुली छत का एक हिस्सा निचली बालकनी पर गिरा

म्हात्रेवाड़ी क्षेत्र में त्रिभुवन ज्योत इमारत के खुली छत का एक हिस्सा निचली बालकनी पर गिरा

मिथिलेश गुप्ताडोंबिवली : डोंबिवली पश्चिम के श्रीधर म्हात्रेवाड़ी क्षेत्र के त्रिभुवन ज्योत में चार मंजिला इमारत की आखिरी मंजिल पर बना कैंटिलीवर निचली बालकनी पर गिर गया है. घटनास्थल पर किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है। इमारत 28-29 साल पुरानी है उन्होंने पांच साल...