महाराष्ट्र:वसूली कांड में CBI की वायरल रिपोर्ट में अनिल देशमुख को क्लीन चिट

by | Aug 29, 2021 | देश/विदेश, महाराष्ट्र, मुंबई

हेडलाइंस18

वसूली कांड ने महाराष्ट्र की राजनीति में तो भूचाल लाया ही, इसके अलावा पूर्व गृहमंत्री अनिल देशमुख को पद से इस्तीफा देना पड़ा. कई मामलों में बुरी तरह फंस चुके अनिल देशमुख को लेकर अब सीबीआई की एक कथित रिपोर्ट चर्चा का विषय बन गई है. ये रिपोर्ट कितनी सटीक है अभी कहा नहीं जा सकता लेकिन इस कथित रिपोर्ट के मुताबिक सीबीआई द्वारा अनिल देशमुख को क्लीन चिट दी गई है. ये कथित क्लीन चिट सीबीआई द्वारा प्राथमकि जांच के बाद दी गई है.

वायरल सीबीआई डॉक्युमेंट में कहा गया है कि अनिल देशमुख द्वारा कोई संज्ञेय अपराध ( Cognizable Offence) नहीं किया गया है. अब सवाल ये उठ रहा है कि अगर सीबीआई की प्रारंभिक जांच में ही अनिल देशमुख को क्लीन चिट दे दी गई थी, तो फिर बाद में किस आधार पर उन्हीं के खिलाफ FIR दर्ज की गई? अब जानकारी के लिए बता दें कि ये कथित सीबीआई रिपोर्ट Dy SP आरएस गुंज्याल द्वारा तैयार की गई है.

वाजे-देशमुख के बीच कोई मीटिंग नहीं?

इस कथित रिपोर्ट के 60वें पेज पर प्वाइंट चार में सचिन वाजे की भूमिका के बारे में बताया गया है. लिखा गया है- सजिन वाजे सीधे मुंबई सीपी को रिपोर्ट करते थे. एंटीलिया केस के बाद तब के गृहमंत्री को खबर लगी थी कि कई संवेदनशील मामले परमबीर सिंह के कहने पर सचिन वाजे को दे दिए गए थे. इसके बाद प्वाइंट 5 में काफी बड़ी बात लिख दी गई है. दावा किया गया है कि सचिन वाजे और अनिल देशमुख के बीच हुई मीटिंग का कोई सबूत नहीं है. लिखा गया है- हर जरूरी मीटिंग में वाजे के साथ परमबीर सिंह होते थे. ये मीटिंग सीएम आवास पर होती थीं. प्वाइंट 6 में आगे लिखा है कि इस बात का कोई सबूत नहीं है कि सचिन वाजे की तब के गृहमंत्री संग कोई मीटिंग हुई थी. कुछ औपचारिक बैठकें जरूर हुई थीं, लेकिन तब दूसरे तमाम अधिकारी भी मौजूद थे.

अब इसी कथित रिपोर्ट में प्वाइंट 8 में भी ऐसा दावा कर दिया गया है जो केस के तमाम समीकरण बदलकर रख देगा. कहा गया है कि इस बात के कोई सबूत नहीं हैं कि तब के गृहमंत्री या फिर उनके पीएस संजीव पलांडे ने किसी हुक्का बार के मालिक से पैसा इकट्ठा करने की बात कही थी. वहीं ये भी कहा गया है कि इस मामले में एसीपी संजय पाटिल और डीसीपी भुजपाल ने अपनी तरफ से पुष्टि कर दी है. उन्होंने भी यही बताया है कि कोई पैसों की डिमांड नहीं की गई थी.

जानकारी के लिए बता दें सीएम उद्धव ठाकरे को एक चिट्ठी लिख परमबीर सिंह ने दावा किया था कि अनिल देशमुख 100 करोड़ की वसूली का काम कर रहे थे. उन्होंने एक टारगेट सेट कर रखा था. लेकिन अब इस सीबीआई डॉक्यूमेंट में उस आरोप को ही गलत बता दिया गया है.

यह न्यूज जरूर पढे 

पालघर के बड़े हिस्से से गुजरेगा देश का सबसे बड़ा आधुनिक मुंबई-दिल्ली एक्सप्रेसवे,केंद्रीय मंत्री गडकरी ने किया निरीक्षण, जानिए पूरी डिटेल

पालघर के बड़े हिस्से से गुजरेगा देश का सबसे बड़ा आधुनिक मुंबई-दिल्ली एक्सप्रेसवे,केंद्रीय मंत्री गडकरी ने किया निरीक्षण, जानिए पूरी डिटेल

केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी गुरुवार सुबह सोहना के लोहटकी पहुंचे और यहां दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे का निरीक्षण किया। 1350 किलोमीटर लंबे इस एक्सप्रेसवे का निर्माण शुरू होने के बाद पहली बार केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी इस प्रोजक्ट का निरीक्षण करने पहुंचे...

बड़ी खबर | वित्त मंत्री की शाम 5 बजे अहम प्रेस कांफ्रेंस,पेट्रोल को लेकर बड़े एलान की संभावना

बड़ी खबर | वित्त मंत्री की शाम 5 बजे अहम प्रेस कांफ्रेंस,पेट्रोल को लेकर बड़े एलान की संभावना

नई दिल्ली : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण गुरुवार शाम 5 बजे अहम प्रेस कॉन्फ्रेंस करने जा रही है. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में पेट्रोल को जीएसटी में लाने जैसे मामलों की जानकारी दे सकती है.इसके अलावा बैड बैंक को लेकर कैबिनेट में हुए फैसलों...

लव मैरेज पर हाईकोर्ट का बड़ा फैसला,7 फेरे लेकर किया गया विवाह ही वैध

लव मैरेज पर हाईकोर्ट का बड़ा फैसला,7 फेरे लेकर किया गया विवाह ही वैध

लव मैरिज को लेकर मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) हाई कोर्ट (High Court) ने बड़ा फैसला सुनाया है. ग्वालियर खंडपीठ ने कहा कि सिर्फ माला पहनने से शादी नहीं हो जाती.उसके लिए पूरे विधि-विधान के साथ अग्नि के 7 फेरे लेने जरूरी हैं. हाई कोर्ट ने यह टिप्पणी आर्य समाज मंदिर में...