नवी मुंबई अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे का नाम लोकनेता डीबी पाटिल के नाम पर रखने की मांग को लेकर पनवेल के उपमहापौर जगदीश गायकवाड़ प्रतिनिधिमंडल ने राज्यपाल से की मुलाकात

by | Jul 27, 2021 | ठाणे, महाराष्ट्र

मिथिलेश गुप्ता
डोंबिवली : नवी मुंबई अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा को भूमिपुत्रों ने डीबी पाटिल का नाम लेने की मांग की है। सत्तारूढ़ शिवसेना नवी मुंबई अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे का नाम शिवसेना प्रमुख बालासाहेब ठाकरे के नाम पर रखने पर अड़ी हुई है। इसलिए, नवी मुंबई अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे का नाम दीबा पाटिल के नाम पर रखने के लिए भूमिपुत्रों ने एक श्रृंखला आंदोलन और फिर सिडको की घेराबंदी शुरू की थी। भूमिपुत्र ने चेतावनी भी दी है कि इसके बाद आंदोलन और तेज होगा. इसलिए सोमवार को राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से पनवेल के उपमहापौर जगदीश गायकवाड़ और प्रतिनिधिमंडल ने मुलाकात की ।

भूमिपुत्रों ने कड़ा रुख अपनाया है कि नवी मुंबई अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे का नाम लोकनेते दी बा पाटिल के नाम पर रखा जाएगा। हालांकि सत्ताधारी दल शिवसेना प्रमुख बालासाहेब ठाकरे के नाम पर अडिग है। 24 जून को सिडको के घेराबंदी आंदोलन के दौरान नवी मुंबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट नेमिंग एक्शन कमेटी के एक प्रतिनिधिमंडल ने सिडको को एक ज्ञापन सौंपा था। सिडको के साथ राज्य सरकार को 15 अगस्त की समय सीमा दी गई है। यदि लोकनेते डी.बी. नवी मुंबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट को पाटिल का नाम नहीं दिया गया तो भूमिपुत्रो ने एयरपोर्ट का काम बंद करने की चेतावनी दी है । इस संबंध में भूमिपुत्र की ओर से रोहिदास म्हात्रे, विलास मात्रे, रुपेश धुमाल, मनिषा भगत ,मयुर चिपलेकर, रितेश तांबडे व सुहास महादेव, सूर्यवंशी ने पनवेल के उप महापौर जगदीश गायकवाड़ के साथ राज्यपाल को भूमिपुत्र की समस्याओं और मांगों को प्रस्तुत किया । अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे भूमिपुत्र ने पाटिल का नाम लेने की मांग की है, लेकिन अभी तक राज्य सरकार की ओर से कोई जवाब नहीं आया है । सभी राजनीतिक दलों के कार्यकर्ता आंदोलन में मौजूद हैं, लेकिन आरपीआई के अलावा किसी अन्य दल ने अभी तक अपनी आधिकारिक स्थिति की घोषणा नहीं की है। इसलिए नवी मुंबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट को लेकर विवाद दिनों दिन तेज होता जा रहा है। इसलिए सभी की निगाह इस बात पर है कि राज्य सरकार और सिडको 15 अगस्त से पहले क्या फैसला लेंगी।

यह न्यूज जरूर पढे