Maharashtra | पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख पर ईडी का शिकंजा,मुंबई के दस बार मालिकों ने तीन महीने में दिए चार करोड़ !

by | Jun 25, 2021 | महाराष्ट्र, मुंबई

महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख पर केंद्रीय जांच एजेंसियों का शिकंजा कसता जा रहा है। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) को पता चला है कि मुंबई के 10 बार मालिकों ने देशमुख को तीन महीने में चार करोड़ रुपये दिए। दूसरी ओर, ईडी ने शुक्रवार को देशमुख के नागपुर और मुंबई के ठिकानों पर दूसरी बार छापेमारी की। पुलिस अधिकारियों को प्रतिमाह 100 करोड़ रुपये की वसूली का टार्गेट देने के कारण ही देशमुख को गृह मंत्री के पद से इस्तीफा देना पड़ा था। उच्च न्यायालय के निर्देश पर सीबीआइ भी उन पर लगे इन्हीं आरोपों की जांच कर रही है। उन पर ये आरोप मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर लगाए थे।
इसके अलावा अंटीलिया प्रकरण एवं मनसुख हिरेन हत्याकांड में गिरफ्तार हो चुके मुंबई पुलिस के बर्खास्त एपीआइ सचिन वाझे ने भी एनआइए अदालत को लिखे पत्र में देशमुख पर यही आरोप लगाए थे। देशमुख ने वाझे को ही अपने सरकारी आवास ज्ञानेश्वरी पर बुलाकर उसे प्रतिमाह 100 करोड़ रुपये की वसूली का आदेश दिया था।

वाझे के अनुसार देशमुख ने उससे कहा था कि मुंबई में 1,750 रेस्तरां एवं बार हैं। इनसे हर महीने 40-50 करोड़ रुपये वसूले जा सकते हैं। वाझे और परमबीर के इन आरोपों की जांच ईडी और सीबीआइ कर रही हैं। पता चला है कि ये एजेंसियां अब तक कई बार मालिकों से पूछताछ कर चुकी हैं। इसी पूछताछ में ईडी को पता चला है कि 10 बार मालिकों ने देशमुख को सिर्फ तीन महीने में चार करोड़ रुपये दिए हैं। इसी जानकारी के बाद ईडी ने शुक्रवार को देशमुख के नागपुर स्थित निजी आवास के साथ-साथ मुंबई स्थित उनके सरकारी आवास ज्ञानेश्वरी एवं वरली की सुखदा इमारत स्थित फ्लैट पर भी छापे मारे। ईडी ने उनके दो सहायकों कुंदन शिंदे एवं संजीव पलांडे के घर पर भी छापेमारी की है। वाझे ने अपने आरोपों में कहा था कि जब वह देशमुख के बुलाने पर उनके घर गया था, तो वहां देशमुख के ये दोनों सहायक भी उपस्थित थे। ईडी देशमुख के विरुद्ध मनी लांड्रिंग का मामला दर्ज कर जांच कर रहा है। देशमुख के नागपुर आवास पर छापेमारी के दौरान ईडी को राकांपा कार्यकर्ताओं के विरोध का भी सामना करना पड़ा। ऐसी परिस्थितियों का अनुमान लगाकर ही ईडी की टीम अपने साथ केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल की एक टुकड़ी लेकर गई थी।
देशमुख के ठिकानों पर ईडी की छापेमारी को लेकर शिवसेना-भाजपा में आरोप-प्रत्यारोप शुरू हो गया है। शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा कि राज्य के नेताओं को केंद्रीय एजेंसियों के जरिये बिना कारण परेशान किया जा रहा है। इसके जवाब में भाजपा नेता देवेंद्र फड़नवीस ने कहा कि देशमुख के खिलाफ जांच हाई कोर्ट के निर्देश पर की जा रही है। यह कहना गलत होगा कि ईडी की कार्रवाई के पीछे किसी तरह की राजनीति है।

यह न्यूज जरूर पढे 

महाराष्ट्र: रायगढ़ जिले में भीषण बारिश के बाद भूस्खलन,36 की मौत

महाराष्ट्र: रायगढ़ जिले में भीषण बारिश के बाद भूस्खलन,36 की मौत

महाराष्ट्र के कई जिलों में भारी बारिश जारी है, जिससे रायगढ़ जिले में बारिश के बाद हुए भूस्खलन से 36 लोगों की मौत की खबर सामने आ रही है। यह हादसा महाड तालुका के सखार सुतार वाड़ी में हुआ है।राज्य के कोंकण क्षेत्र में लगातार बारिश जारी है। जिले में बाढ़ प्रभावित...

ठाणे जिला मे भारी बारिश , कई स्थानों पर बाढ़ की स्थिति

ठाणे जिला मे भारी बारिश , कई स्थानों पर बाढ़ की स्थिति

मिथिलेश गुप्ता डोंबिवली : मुंबई, ठाणे और ठाणे जिलों में कल्याण-डोंबिवली, बदलापुर, भिवंडी, शाहपुर, अंबरनाथ और शाहद जिलों में भारी बारिश हुई. डोंबिवली के पास देवीचापाड़ा, कोपर, मोठगाँव ठाकुर्ली, गरीबांच्य वाडा, राजू नगर, कुंभरखान पाड़ा में बाढ़ आ गई है। डोंबिवली पश्चिम...

पालघर में फिर तार-तार हुई इंसानियत, कोरोना मरीजों को परोस दिया……

पालघर में फिर तार-तार हुई इंसानियत, कोरोना मरीजों को परोस दिया……

भारतीय जनता पार्टी के विधान परिषद सदस्य निरंजन दावखरे ने बुधवार को दावा किया कि पालघर जिले के एक कोविड-19 देखभाल केंद्र में मरीजों को कीड़ा लगा भोजन परोसा जा रहा है।एमएलसी ने विक्रमगढ़ में राज्य सरकार द्वारा संचालित कोविड-19 देखभाल केंद्र में भोजन की आपूर्ति करने वाले...