कोरोना से ज्यादा कहर तो भारतीयों ने अपनी हड़बड़ाहट से बना दिया है

by | Apr 18, 2021 | कोविड 19, देश/विदेश

राजेन्द्र एम. छीपा

आमतौर पर देखा गया है किसी भी चीज को लेकर उस पर टूट पड़ना मतलब हडबडाहट भारतीयों की बहुत बुरी आदत है. देखा होगा ट्रेन आती है तो लोगो को उतरने देंगे नहीं खुद पहले घुसेंगे ,जैसे कही ट्रेन चली न जाए व हम रह ना जाए. सड़क पर थोड़ी भी जगह दिख जाए तो कही भी घुस जायेंगे,भाड़ में जाए ट्रैफिक रूल्स या दूसरों की परेशानी, कुछ सेकंड में ही हॉर्न बजाने लगेंगे,गालिया देने लगेंगे, जैसे घर पे बम डीफ्यूज करने के लिए उन्हें तुरंत घर जाना है,एक सैकंड की भी देरी हुई तो ब्लास्ट हो जायेगा ।
लॉकडाउन की बात हो तो बाजार में टूट पड़ेंगे सामान जमा करने के लिए ,जैसे दुनिया ख़त्म हो रही हो व कल से तो कुछ मिलेगा ही नही. अगर किसी दिन कुछ प्रतिशत बाजार गिरा तो आपा खो देते है सब बेचो, निफ्टी सेंसेक्स खत्म हो जायेंगे ।
लोगो की इसी आदत के कारण कोरोना प्रसार को रोकना भी सरकार को मैनेज करना भारी पड़ रहा है.वैसे देखा जाए तो केवल 2% के आसपास सीरियस लोगो को हॉस्पिटल में रखने की व ऑक्सीजन की जरुरत होती है. केवेल 5% को Remdesivir की आवश्यकता होती है. पर अपने यहां लोग टूट पड़ते है यह सोचकर कि बाद में शायद बेड न मिले,ऑक्सीजन न मिले,अपने लक्षण बढ़ा चढ़ा एडमिट होते है, कुछ तो नेता ,मंत्री ,अधिकारी से जुगाड़ करके भी बेड ले रहे है । आज हॉस्पिटलों में ऐसे कई लोग है जो बिलकुल स्वस्थ है फिर भी 3-6 गुणा ज्यादा पैसा दे के इंजेक्शन खरीद रहे है, बस इस डर से की बाद में कही हो गया तो उसके लिए इंजेक्शन मिल जाए । कुछ लोगो के इन कारणों की वजह से आज सबकुछ मैनेज करना भारी पड़ रहा है. बेवजह की इस हड़बड़ाहट में कुछ जरूरतमन्दों को इलाज नही मिल पा रहा,संसाधनों का टोटा सामने आ रहा है ।
साथ ही अगर किसी को कुछ जब घबराहट,डर पैदा करने वाला विडियो ,फोटो या पोस्ट मिल जाए तो उसे ट्वेंटी ट्वेंटी मैच की तरह फटाफट ज्यादा से ज्यादा शेयर करने से बचे. कोरोना के प्रसार को रोकने के लिए खुद को सुरक्षित रखे,खुद को सकारात्मक रखे । वैसे जलने वाली सभी चिताए कोरोना की नहीं होती,करीबन 35 हजार लोगो की मृत्य हर रोज देश में स्वाभाविक होती है. देश मे कोरोना मरीजों की रिकवरी रेट भी काफी अच्छी है, लोगो को हौसला बढाए ,एक समर्पित व जिम्मेदार नागरिक बनकर इस संकट की घड़ी में योगदान दे । कम से कम आप खुद व अपने परिवार को सरकारी गाइडलाइन व covid से बचनेे के लिए WHO द्वारा बताई गई सावधानियों पर गौर करे ताकि संक्रमण की चैन को रोका जा सके. अकेली सरकार या डॉक्टर इस जंग को नही जीत सकते बल्कि इसमे हम सभी की भूमिका भी जरूरी है ।

यह न्यूज जरूर पढे 

पूर्व मंत्री और सलोन से BJP विधायक दल बहादुर कोरी का निधन, कोरोना से थे संक्रमित

पूर्व मंत्री और सलोन से BJP विधायक दल बहादुर कोरी का निधन, कोरोना से थे संक्रमित

राजकुमार यूपी के रायबरेली जिले की सलोन विधानसभा सीट से बीजेपी विधायक और पूर्व मंत्री दल बहादुर कोरी का इलाज के दौरान निधन हो गया है.करीब एक सप्ताह पहले उन्हें लखनऊ (Lucknow) के अपोलो अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया था.बताया गया कि दल बहादुर कोरी कोरोना से...

बोईसर की रेमडेसिविर इंजेक्शन बनाने वाली कंपनी का मंत्री असलम शेख ने किया दौरा,कहा केंद्र सरकार अगर करे ये काम तो इंजेक्शन की नही होगी कमी

बोईसर की रेमडेसिविर इंजेक्शन बनाने वाली कंपनी का मंत्री असलम शेख ने किया दौरा,कहा केंद्र सरकार अगर करे ये काम तो इंजेक्शन की नही होगी कमी

हेडलाइंस18 पालघर.मुंबई के पालकमंत्री असलम शेख ने बोईसर की तारापूर एमआईडीसी में स्थित रेमडेसिविर इंजेक्शन बनाने वाली कमला लाईफ सायन्सेस लिमटेड कंपनी का दौरा किया। और कोरोना काल मे लोगों के लिए संजीवनी बने रेमडेसिविर इंजेक्शन का उत्पादन और कैसे बढ़ाया जाए इसको लेकर...

वसई-विरार : कोरोना को लेकर निजी अस्पतालों के प्रबंधकों के साथ आयुक्त ने की बैठक

वसई-विरार : कोरोना को लेकर निजी अस्पतालों के प्रबंधकों के साथ आयुक्त ने की बैठक

हेडलाइंस18 नेटवर्कवसई-विरार शहर महानगरपालिका क्षेत्र में कोरोना वायरस (covid -19) के बढ़ते मामलों को देखते हुए,मनपा द्वारा काबू पाने के लिए विभिन्न प्रयास किए जा रहे हैं। मरीजों का इलाज करते समय ऑक्सीजन की कमी न हो। इसी संबंध में बुधवार को आयुक्त गंगाधरन डी.,अतिरिक्त...