हवा में भी फैल रहा है कोरोना वायरस,लैंसेट की रिपोर्ट ने किये चौकाने वाले दावे

by | Apr 17, 2021 | देश/विदेश

समूचे विश्व को भयभीत कर रही कोरोना महामारी को लेकर और बड़ा दावा किया गया है। विश्व की प्रमुख स्वास्थ्य पत्रिका लैंसेट में प्रकाशित एक अध्ययन रिपोर्ट में कहा गया है कि कोरोना वायरस हवा के साथ तेजी से फैलता है। सॉर्स कोव-2 वायरस को लेकर अब तक प्रकाशित अध्ययनों की एक समीक्षा रिपोर्ट ब्रिटेन, अमेरिका व कनाडा के वैज्ञानिकों ने तैयार की है।
विश्व प्रसिद्ध मेडिकल जर्नल द लांसेट ने अपनी नई रिपोर्ट में दावा किया है कि यह वायरस हवा के रास्ते फैल रहा है और इसके लिए जर्नल ने 10 कारण भी बताए.

  1. वायरस के सुपरस्प्रेडिंग इवेंट तेजी से SARS-CoV-2 वायरस को आगे ले जाता है. वास्तव में, यह महामारी के शुरुआती वाहक हो सकते हैं. ऐसे ट्रांसमिशन का बूंदों के बजाय हवा (aerosol) के जरिए होना ज्यादा आसान है.
  2. क्वारंटीन होटलों में एक-दूसरे से सटे कमरों में रह रहे लोगों के बीच यह ट्रांसमिशन देखा गया, जबकि ये लोग एक-दूसरे के कमरे में नहीं गए.
  3. विशेषज्ञों का दावा है कि सभी कोविड-19 मामलों में 33 प्रतिशत से 59 प्रतिशत तक मामलों में एसिम्प्टोमैटिक या प्रिजेप्टोमैटिक ट्रांसमिशन जिम्मेदार हो सकते हैं जो खांसने या छींकने वाले नहीं हैं.
  4. वायरस का ट्रांसमिशन आउटडोर (बाहर) की तुलना में इंडोर (अंदर) में अधिक होता है और इंडोर में अगर वेंटिलेशन हो तो संभावना काफी कम हो जाती है.
  5. नोसोकोमियल संक्रमण (जो एक अस्पताल में उत्पन्न होते हैं) को उन स्थानों पर भी पाया गया जहां हेल्थकेयर प्रोफेशनल्स ने पीपीई किट का उपयोग किया था. पीपीई किट को कॉन्टैक्ट और ड्रॉपलेट से सुरक्षित बनाया गया, लेकिन हवा के रास्ते (aerosol) से बचने के लिए कोई तरीका नहीं होता.
  6. विशेषज्ञों का कहना है कि SARS-CoV-2 हवा में पाया गया है. लैब में SARS-CoV-2 वायरस कम से कम 3 घंटे तक हवा में संक्रामक हालत में रहा. कोरोना के मरीजों के कमरों और कार में हवा के सैंपल में वायरस मिला.
  7. SARS-CoV-2 वायरस कोरोना मरीजों वाले अस्पतालों के एयर फिल्टर्स और बिल्डिंग डक्ट्स में मिले हैं. यहां केवल हवा के जरिए (aerosol) ही पहुंच सकता है.
  8. विशेषज्ञों ने पाया कि संक्रमित पिंजरों में बंद जानवरों में भी वायरस के लक्षण मिले और यह एयर डक्ट के जरिए हुआ.
  9. विशेषज्ञों का यह भी कहना है कि हवा से वायरस नहीं फैलता, इसे साबित करने के लिए पर्याप्त सबूत नहीं हैं.
  10. उनका अंतिम तर्क था कि दूसरे तरीकों से वायरस फैलने के कम सबूत हैं, जैसा कि रेस्पिरेटरी ड्रॉपलेट या फोमाइट.

अगर विशेषज्ञों का नया दावा अगर सिद्ध और स्वीकार कर लिया जाता है, तो दुनियाभर में कोरोना के खिलाफ जंग की रणनीति पर भारी असर पड़ सकता है. इससे लोगों को अपने घरों के अंदर भी मास्क पहनना पड़ सकता है और शायद हर समय.

यह न्यूज जरूर पढे 

महाराष्ट्र:लॉकडाउन की पाबंदियों में छूट के दौरान मुंबई लोकल को लेकर क्‍या हुआ फैसला, पढ़े ताजा अपडेट

महाराष्ट्र:लॉकडाउन की पाबंदियों में छूट के दौरान मुंबई लोकल को लेकर क्‍या हुआ फैसला, पढ़े ताजा अपडेट

महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमण के मामलों को कम होता देख सरकार ने पाबंदियों में कई तरह की छूट दे दी है, लेकिन मुंबईकर का सबसे ज्‍यादा इंतजार मुंबई की लाइफलाइन कहलाने वाली लोकल ट्रेन को लेकर है। मुंबई के लोगों को उम्‍मीद थी कि सरकार अनलॉक के इस चरण में लोकल ट्रेन को लेकर...

हॉकी में भारत ने जर्मनी को 5-4 से हराकर कांस्य जीता, 41 साल बाद ओलंपिक में पदक के साथ भारतीयों का दिल भी जीता

हॉकी में भारत ने जर्मनी को 5-4 से हराकर कांस्य जीता, 41 साल बाद ओलंपिक में पदक के साथ भारतीयों का दिल भी जीता

भारतीय हॉकी टीम ने 41 साल बाद ओलंपिक में पदक हासिल कर लिया है। भारत ने टोक्यो ओलंपिक में कांस्य पदक के मुकाबले में जर्मनी को हरा दिया। मैच में शुरुआत में पिछड़ने के बाद भारत ने जोरदार वापसी की और जर्मनी के खिलाफ मैच को 5-4 से जीत लिया। इससे पहले आखिरी बार हॉकी में टीम...

पालघर में कोरोना का खौफ,तीन दिन पिता का घर मे पड़ा रहा शव,बेटी ने भी दी जान

पालघर में कोरोना का खौफ,तीन दिन पिता का घर मे पड़ा रहा शव,बेटी ने भी दी जान

महाराष्ट्र के पालघर जिले से एक सनसनीखेज वारदात सामने आई है. यहां के विरार इलाके में कोरोना का ऐसा खौफ देखने को मिला कि बेटियों ने टेस्ट कराने के डर से बुजुर्ग पिता का शव तीन दिन तक घर में रखा. इस दौरान एक बेटी ने सुसाइड भी कर लिया जबकि अपनी जान देने की कोशिश करने वाली...