हवा में भी फैल रहा है कोरोना वायरस,लैंसेट की रिपोर्ट ने किये चौकाने वाले दावे

by | Apr 17, 2021 | देश/विदेश

समूचे विश्व को भयभीत कर रही कोरोना महामारी को लेकर और बड़ा दावा किया गया है। विश्व की प्रमुख स्वास्थ्य पत्रिका लैंसेट में प्रकाशित एक अध्ययन रिपोर्ट में कहा गया है कि कोरोना वायरस हवा के साथ तेजी से फैलता है। सॉर्स कोव-2 वायरस को लेकर अब तक प्रकाशित अध्ययनों की एक समीक्षा रिपोर्ट ब्रिटेन, अमेरिका व कनाडा के वैज्ञानिकों ने तैयार की है।
विश्व प्रसिद्ध मेडिकल जर्नल द लांसेट ने अपनी नई रिपोर्ट में दावा किया है कि यह वायरस हवा के रास्ते फैल रहा है और इसके लिए जर्नल ने 10 कारण भी बताए.

  1. वायरस के सुपरस्प्रेडिंग इवेंट तेजी से SARS-CoV-2 वायरस को आगे ले जाता है. वास्तव में, यह महामारी के शुरुआती वाहक हो सकते हैं. ऐसे ट्रांसमिशन का बूंदों के बजाय हवा (aerosol) के जरिए होना ज्यादा आसान है.
  2. क्वारंटीन होटलों में एक-दूसरे से सटे कमरों में रह रहे लोगों के बीच यह ट्रांसमिशन देखा गया, जबकि ये लोग एक-दूसरे के कमरे में नहीं गए.
  3. विशेषज्ञों का दावा है कि सभी कोविड-19 मामलों में 33 प्रतिशत से 59 प्रतिशत तक मामलों में एसिम्प्टोमैटिक या प्रिजेप्टोमैटिक ट्रांसमिशन जिम्मेदार हो सकते हैं जो खांसने या छींकने वाले नहीं हैं.
  4. वायरस का ट्रांसमिशन आउटडोर (बाहर) की तुलना में इंडोर (अंदर) में अधिक होता है और इंडोर में अगर वेंटिलेशन हो तो संभावना काफी कम हो जाती है.
  5. नोसोकोमियल संक्रमण (जो एक अस्पताल में उत्पन्न होते हैं) को उन स्थानों पर भी पाया गया जहां हेल्थकेयर प्रोफेशनल्स ने पीपीई किट का उपयोग किया था. पीपीई किट को कॉन्टैक्ट और ड्रॉपलेट से सुरक्षित बनाया गया, लेकिन हवा के रास्ते (aerosol) से बचने के लिए कोई तरीका नहीं होता.
  6. विशेषज्ञों का कहना है कि SARS-CoV-2 हवा में पाया गया है. लैब में SARS-CoV-2 वायरस कम से कम 3 घंटे तक हवा में संक्रामक हालत में रहा. कोरोना के मरीजों के कमरों और कार में हवा के सैंपल में वायरस मिला.
  7. SARS-CoV-2 वायरस कोरोना मरीजों वाले अस्पतालों के एयर फिल्टर्स और बिल्डिंग डक्ट्स में मिले हैं. यहां केवल हवा के जरिए (aerosol) ही पहुंच सकता है.
  8. विशेषज्ञों ने पाया कि संक्रमित पिंजरों में बंद जानवरों में भी वायरस के लक्षण मिले और यह एयर डक्ट के जरिए हुआ.
  9. विशेषज्ञों का यह भी कहना है कि हवा से वायरस नहीं फैलता, इसे साबित करने के लिए पर्याप्त सबूत नहीं हैं.
  10. उनका अंतिम तर्क था कि दूसरे तरीकों से वायरस फैलने के कम सबूत हैं, जैसा कि रेस्पिरेटरी ड्रॉपलेट या फोमाइट.

अगर विशेषज्ञों का नया दावा अगर सिद्ध और स्वीकार कर लिया जाता है, तो दुनियाभर में कोरोना के खिलाफ जंग की रणनीति पर भारी असर पड़ सकता है. इससे लोगों को अपने घरों के अंदर भी मास्क पहनना पड़ सकता है और शायद हर समय.

यह न्यूज जरूर पढे 

पूर्व मंत्री और सलोन से BJP विधायक दल बहादुर कोरी का निधन, कोरोना से थे संक्रमित

पूर्व मंत्री और सलोन से BJP विधायक दल बहादुर कोरी का निधन, कोरोना से थे संक्रमित

राजकुमार यूपी के रायबरेली जिले की सलोन विधानसभा सीट से बीजेपी विधायक और पूर्व मंत्री दल बहादुर कोरी का इलाज के दौरान निधन हो गया है.करीब एक सप्ताह पहले उन्हें लखनऊ (Lucknow) के अपोलो अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया था.बताया गया कि दल बहादुर कोरी कोरोना से...

बोईसर की रेमडेसिविर इंजेक्शन बनाने वाली कंपनी का मंत्री असलम शेख ने किया दौरा,कहा केंद्र सरकार अगर करे ये काम तो इंजेक्शन की नही होगी कमी

बोईसर की रेमडेसिविर इंजेक्शन बनाने वाली कंपनी का मंत्री असलम शेख ने किया दौरा,कहा केंद्र सरकार अगर करे ये काम तो इंजेक्शन की नही होगी कमी

हेडलाइंस18 पालघर.मुंबई के पालकमंत्री असलम शेख ने बोईसर की तारापूर एमआईडीसी में स्थित रेमडेसिविर इंजेक्शन बनाने वाली कमला लाईफ सायन्सेस लिमटेड कंपनी का दौरा किया। और कोरोना काल मे लोगों के लिए संजीवनी बने रेमडेसिविर इंजेक्शन का उत्पादन और कैसे बढ़ाया जाए इसको लेकर...

ठाणे:ATS ने सात किलो यूरेनियम के साथ दो लोगों को किया गिरफ्तार, बाजार में खोज रहे थे ग्राहक

ठाणे:ATS ने सात किलो यूरेनियम के साथ दो लोगों को किया गिरफ्तार, बाजार में खोज रहे थे ग्राहक

मिथिलेश गुप्ता महाराष्ट्र आतंकवाद निरोधी दस्ते (ATS) ने गुरुवार को 7 किलो यूरेनियम के साथ 2 लोगों को ठाणे से गिरफ्तार किया है। दोनों आरोपी पिछले कई दिनों से यूरेनियम बेचने के लिए खरीदार की तलाश कर रहे थे। जब्त यूरेनियम की बाजार में कीमत 21 करोड़ रुपए बताई जा रही है।...