एक और कारनामा : TRP स्कैम में भी वाजे का नाम,​​BARC से वसूले थे 30 लाख, फेक कंपनियों और हवाला के जरिए दी गई रकम

by | Apr 11, 2021 | महाराष्ट्र, मुंबई

मुंबई : एंटीलिया केस और मनसुख मर्डर केस के बाद अब सस्पेंड चल रहे मुंबई के पुलिस अफसर सचिन वझे का नाम फेक TRP स्कैम में भी सामने आया है। मामले में मनी लॉन्ड्रिंग की जांच कर रहे प्रवर्तन निदेशालय (ED) को घोटाले और वझे के बीच कनेक्शन मिला है। ED की जांच में पता चला कि वझे ने एक पुलिस अफसर के जरिए ब्रॉडकास्टिंग ऑडियंस रिसर्च काउंसिल (BARC) के अधिकारियों को परेशान न करने के लिए काउंसिल से 30 लाख की वसूली की थी।मीडिया रिपोर्ट्स में ED सूत्रों के हवाले से बताया गया है कि BARC के अधिकारियों ने पूछताछ में वझे को घूस देने की बात कही है। ED की पूछताछ में BARC के एक अधिकारी ने इसकी पुष्टि की है, लेकिन अभी इस संबंध में सचिन वझे से पूछताछ बाकी है। इसमें 5 फेज में पेमेंट को अंजाम दिया गया है। BARC ने अपने दस्तावेजों में ये दिखाया है कि उन्होंने अपने दफ्तर में निर्माण से जुड़े कुछ काम करवाए हैं। इसके बाद एक डमी कंपनी को इसका पेमेंट किया गया है। BARC ने हंसा ग्रुप के जरिए कुछ चुनिंदा घरों पर रेटिंग तय करने के लिए बैरोमीटर लगवाया। यह एग्रीमेंट 30 जुलाई को निरस्त कर दिया गया।वझे ने BARC और फेक TRP मामले से जुड़ी दूसरी कंपनियों के अधिकारियों को फोन कर पूछताछ के लिए दक्षिण मुंबई स्थित पुलिस कमिश्नर हेडक्वार्टर में बुलाया। जब अधिकारी पूछताछ के लिए पहुंचते थे तो वझे उन्हें कई घंटे तक इंतजार करवाता था। कभी-कभी इंतजार करते-करते शाम भी हो जाती थी। इसके बाद वझे उन्हें अगले दिन आने को कह देता था। वझे ने इन अधिकारियों तक ये बात भी पहुंचवाई थी कि पूछताछ के दौरान वो संदिग्धों से मारपीट भी करता है। इसके बाद उसने BARC से 30 लाख की रकम देने को कहा था ताकि इस तरह का टॉर्चर न दिया जाए।
BARC ने हंसा ग्रुप को चुनिंदा घरों में बैरोमीटर्स लगाने का ठेका दिया था। पिछले साल एक पुलिस केस फाइल कर हंसा ग्रुप ने अपने कर्मचारियों पर इन घरों को पैसा देकर टीआरपी में घालमेल का आरोप लगाया। मुंबई में तब पुलिस कमिश्‍नर रहे परमबीर सिंह ने मामले की जांच सेंट्रल इंटेलिजेंस यूनिट (CIU) को सौंपी जिसे वझे संभाल रहे थे। इसी के बाद, मुंबई पुलिस की एफआईआर के आधार पर ईडी ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया।
मुंबई पुलिस ने पिछले साल 8 अक्टूबर को प्रेस कॉन्फ्रेंस करके फॉल्स TRP रैकेट का भंडाफोड़ करने का दावा किया। तब के मुंबई पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने बताया था कि रिपब्लिक टीवी समेत 3 चैनल पैसे देकर TRP खरीदते थे। हालांकि, रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क ने इन आरोपों को झूठा करार दिया था।

यह न्यूज जरूर पढे 

पालघर,बोईसर,मनोर,डहाणू समेत जिलेभर में हवा के साथ बारिश

पालघर,बोईसर,मनोर,डहाणू समेत जिलेभर में हवा के साथ बारिश

हेडलाइंस18 नेटवर्क'ताऊते' चक्रवात के चलते मौसम विभाग ने आज मुंबई समेत आसपास क्षेत्र में ऑरेंज अलर्ट जारी कर दिया है. विभाग की माने तो चक्रवात मुंबई में भारी बारिश समेत तेज हवा लेकर आ सकता है. वहीं, ताऊते चक्रवात के चलते आज कोविड-19 वैक्सीनेशन की प्रक्रिया को रद्द कर...

कोरोना टेस्ट की आ गई सबसे सस्ती किट,100 रुपये में जांच,15 मिनट में रिपोर्ट,जानिए मुंबई की स्टार्टअप पतंजलि फार्मा के इस कीट के बारे में …

कोरोना टेस्ट की आ गई सबसे सस्ती किट,100 रुपये में जांच,15 मिनट में रिपोर्ट,जानिए मुंबई की स्टार्टअप पतंजलि फार्मा के इस कीट के बारे में …

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों से गांवों पर फोकस करने को कहा है. शहर की अपेक्षा गांवों में संसाधनों की काफी कमी है. पीएम मोदी ने सभी राज्यों के मुखियाओं से कहा है कि इस महामारी को गांवों में फैलने से रोकना होगा. कोरोना कंट्रोल के लिए रणनीति...

पालघर : कोरोना की रफ्तार हुई धीमी,कुल मरीजों का आंकड़ा एक लाख के पार, जानिए आज की ताजा स्थिति

पालघर : कोरोना की रफ्तार हुई धीमी,कुल मरीजों का आंकड़ा एक लाख के पार, जानिए आज की ताजा स्थिति

हेडलाइंस18 नेटवर्कपालघर : बेकाबू कोरोना ( Covid19) का कहर लगातार जारी है । राज्य में कोरोना के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए मिनी लॉकडाउन लगाया गया है । जिले में कोरोना संक्रमित मरीजों के आंकड़ों में लगातार इजाफा देखने को मिल रहा है ।कोरोना के ताजा आंकड़ेअब तक कुल मरीज -...