महाराष्ट: आरती में लगे ‘अल्लाह-हु-अकबर’ के नारे,पुलिस बनी रही मूकदर्शक, बवाल के बाद केस दर्ज

by | Mar 31, 2021 | देश/विदेश, महाराष्ट्र, मुंबई

हेडलाइंस18
महाराष्ट्र के मलंगगढ़ में स्थित मछिंदरनाथ समाधि स्थल पर आरती के दौरान मुस्लिम समुदाय के कुछ लोगों द्वारा ‘अल्लाह-हु-अकबर’ का नारा लगाने से तनावपूर्ण स्थिति पैदा हो गई। माघ पूर्णिमा के अवसर पर कल्याण पूर्व के मलंगगढ़ में स्थित मछिंदरनाथ समाधि स्थल पर हिंदू समुदाय के लगभग 50 से 60 लोग आरती करने के लिए गए थे। आरोप है, कि घटना के दौरान पुलिस के जवान भी शुरू में मूकदर्शक बने रहे लेकिन जब हालात बिगड़ने लगे तो पुलिस ने बीच-बचाव की कोशिश की तो मुस्लिम पक्ष के लोगों ने पुलिसवालों का कॉलर पकड़ लिया और उन्हें धक्का भी दिया। पुलिस ने इस मामले में मुस्लिम पक्ष के 4 आरोपियों को गिरफ्तार किया है।इस मामले में आरती कर रहे कई आयोजकों के खिलाफ कोविड ऐक्ट के तहत केस दर्ज किया गया है। घटना 28 मार्च को रात 8 बजे की है। 

आरती में लगे ‘अल्लाह-हु-अकबर’ के नारे
आरोप है, कि मछिंदरनाथ समाधि स्थल पर लोग पूजा-पाठ और आरती कर ही रहे थे कि उसी समय मुस्लिम समुदाय के 50 से 60 लोग आ गए और अल्लाह-हु-अकबर के नारे लगाने लगे। इसके चलते दोनों समुदाय में कहासुनी होने लगी और बात हाथापाई तक पहुंच गई। दरअसल, कोरोना के चलते धार्मिक स्थलों में 5 से ज्यादा लोगों के एक साथ इकट्ठा होने पर रोक है, ऐसे में मुस्लिम लोगों का आरोप था कि जब बगल में मौजूद दरगाह पर रोक है तो मंदिर में इतने लोग कैसे आ गए? मुस्लिम समाज के लोग अपना विरोध जताने के लिए आरती के दौरान मंदिर में घुस आए और ‘अल्लाह-हु-अकबर’ के नारे लगाने लगे।  

समाधि स्थल को लेकर पहले भी हो चुका है विवाद
गोरखनाथ पंथ को मानने वाले लोगों का कहना है कि यह समाधि मछिंदरनाथ की है, जबकि मुस्लिम पक्ष का कहना कि यह हाजी मलंग बाबा की मजार है। इस समाधि पर हर वर्ष पुर्णिमा की रात हिंदू पक्ष की तरफ से आरती की जाती है। यहां समाधि और मजार की जमीन को लेकर काफी लंबे समय से विवाद चला आ रहा है और दोनों ही पक्षों ने जमीन के एक-एक हिस्से पर अपना कब्जा किया हुआ है। इस जगह पर अपने आधिपत्य को लेकर दोनों पक्षों में पहले भी विवाद हो चुका है।

यह न्यूज जरूर पढे