WhatsApp यूजर्स के सिर पर मंडरा रहा बहुत बड़ा खतरा,रहे अलर्ट वरना हो सकते है आप भी शिकार….

by | Mar 18, 2021 | उत्तर प्रदेश, गुजरात, देश/विदेश, बिहार, महाराष्ट्र, राजस्थान

नई दिल्ली : WhatsApp देश भर में सबसे ज्यादा यूज किया जाने वाला मैसेंजिंग ऐप है, लेकिन इस ऐप को लेकर डेटा सिक्योरिटी का रिस्क भी बढ़ता जा रहा है. ऐसी कई रिपोर्ट्स सामने आई हैं जिनमें एंड्रॉइड डिवाइस पर वाट्सऐप के जरिए वायरस फैलने की बात कही गई है. रिपोर्ट्स के मुताबिक कई यूजर्स ने वाट्सऐप इनबॉक्स में आए मैसेज पर क्लिक करते ही अपने अकाउंट का एक्सेस खो दिया.

दरअसल इन मैसेजेस के जरिए मालेशियस तस्वीरें और लिंक यूजर्स को भेजे जा रहे हैं, जिन पर क्लिक करते यूजर का सेंसटिव डेटा चोरी हो जाता है. जाहिर है कि हैकर अक्सर इस ताक में बैठे रहते हैं कि उन्हें यूजर्स का जरूरी डेटा मिल जाए. इन मैसेजेस के जरिए यूजर्स के डिवाइस में मैलवेयर इंस्टॉल हो जाता है. इसके बाद ये मैलवेयर यूजर की कॉन्टेक्ट लिस्ट पर अटैक करता है और अक्सर अकाउंट तक उनकी पहुंच को दूर कर देता है. कई मैसेजेस में यूजर्स से स्मार्टफोन जीतने के लिए लिंक पर क्लिक करने की बात कही गई थी. जिन यूजर्स ने इस झांसे में आकर लिंक पर क्लिक किया उनके डिवाइस हैक हो गए.

मैलवेयर एक तरह का वायरस होता है, जोकि दूसरे ऐप पर डिपेंड होता है. मैलवेयर को कई फर्जी मैसेजेस के जरिए यूजर्स के स्मार्टफोन में जगह मिलती है. ये मैलवेयर पहले तो यूजर के SMS और कॉन्टेक्ट लिस्ट को खंगालता है और फिर यूजर की परमीशन के बगैर पेड और प्रीमियम सर्विस को सबस्क्राइब करता है. ऐसे में अगर आपकी बैंक डिटेल्स आपके फोन से लिंक हैं तो आपका अकाउंट कुछ मिनटों में खाली हो सकता है. परेशान करने वाली बात ये है कि मैलवेयर को पहचानना काफी मुश्किल है. इस मैलवेयर को बनाने में छोटी सी कोडिंग का इस्तेमाल होता है जिससे ये ऐप के कोड में मैच हो जाते हैं और डिटेक्ट नहीं हो पाते.

इस बला से बचने के लिए ये तरीका अपनाएं
वाट्सऐप का इस्तेमाल अक्सर लोगों को ठगने के लिए किया जाता है. हैकर्स ऐसा जाल बिछाते हैं कि यूजर यह नहीं समझ पाते हैं कि ऐप पर उन्हें जो मैसेज मिल रहा है वह अथोराइज्ड सोर्स से भेजा गया है या नहीं. इनमें से ज्यादातर मैसेज बिलकुल सही लगते हैं और यूजर इनपर भरोसा कर लेते हैं. इन मैसेजों में फेस्टिवल गिफ्ट, फ्री होटल में रहने या कुछ प्राइज मनी देने का वादा किया जाता है. इन मैसेजेस के साथ एक लिंक अटैच होती है जो यूजर्स को फर्जी साइटों पर रिडायरेक्ट करती है. इन पर क्लिक करते ही यूजर की बैंक कार्ड डिटेल्स, फोन नंबर और दूसरी सेंसटिव सेंसटिव जानकारी चोरी हो जाती है.
इन सभी अनचाहे मैसेजों से बचने के लिए जरूरी है कि आप ऐसे कॉन्टेक्ट्स का जवाब ना दें और ना ही इन पर रिएक्ट करें.जब भी आपको ऐसा कोई मैसेज मिले जो मुफ्त में कुछ देने का दावा करे तो इसका जवाब न दें या लिंक पर ना क्लिक करें.यूजर्स के साथ बातचीत तभी करें जब आप क्रॉस-चेक करें और महसूस करें कि यह एक ट्रस्टेड सोर्स से भेजा गया है.

यह न्यूज जरूर पढे