पश्चिम महाराष्ट्र सामाजिक संस्था ने बोईसर में हर्षोल्लास से मनाई शिवाजी महाराज की जयंती

by | Feb 19, 2021 | पालघर, महाराष्ट्र

हेडलाइंस18 
देशभर में शुक्रवार को छत्रपति शिवाजी महाराज की 391वीं जयंती हर्षोल्लास के साथ मनाई गई। छत्रपति शिवाजी की जयंती पर पालघर जिले में कई कार्यक्रमो का आयोजन किया गया। बोईसर में पश्चिम महाराष्ट्र सामाजिक संस्था ने कार्यक्रम का आयोजन कर छत्रपति शिवाजी महाराज की वीरगाथ को याद कर उन्हें देश का सच्चा सपूत बताया। इस अवसर पर पश्चिम महाराष्ट्र सामाजिक संस्था के अध्यक्ष प्रमोदराव जाधव ने कहा कि छत्रपति शिवाजी महाराज का जीवन हम सबके लिये खासकर युवा पीढ़ी के लिए प्रेरणा का स्रोत है। जाधव ने कहा कि छत्रपति शिवाजी महाराज में कई ऐसे खास गुण थे, जो उन्हें आदर्श प्रशासक बनाते थे और ये गुण आज भी प्रासंगिक हैं। आज भी शिवाजी के राज्यकाल को एक आदर्श राज्य के रूप में देखा जाता है। प्रमोदराव जाधव ने पत्रकारों से कहा किकोरोना के प्रकोप को देखते हुये शासन के दिशा निर्देशों के अनुसार कार्यक्रम का आयोजन किया गया। और लोगो को हैंड सैनिटाइजर बांटे गये। प्रताप पाटील,नेमिनाथ एल मंते,हिंदूराव कोलेकर,हमवीरराव शिंदे,सोमनाथ भोजने, अनिल पाचांगने,राजेन्द्र थोरात,शुभांगी माने आदि मौजूद रहे।

छत्रपति शिवाजी महाराज ने मुगलों से संघर्ष कर उन्हें चटाई थी धूल 

छत्रपति शिवाजी महाराज देश के वीर सपूतों में से एक थे, जिन्हें ‘मराठा गौरव’ भी कहते हैं और भारतीय गणराज्य के महानायक भी। वर्ष 1674 में उन्होंने पश्चिम भारत में मराठा साम्राज्य की नींव रखी थी। उन्होंने कई सालों तक मुगलों से संघर्ष किया था और उन्हें धूल चटाई थी। छत्रपति शिवाजी महाराज का जन्म 19 फरवरी 1630 को मराठा परिवार में हुआ था। उनके जन्मदिवस के अवसर पर ही हर साल 19 फरवरी को भारत में छत्रपति शिवाजी महाराज जयंती मनाई जाती है। यह साल इस महान मराठा की 391वीं जयंती के रूप में मनाया जा रहा है। छत्रपति शिवाजी महाराज को उनके अद्भुत बुद्धिबल के लिए जाना जाता है। वह पहले भारतीय शासकों में से एक थे, जिनके बारे में कहा जाता है कि उन्होंने महाराष्ट्र के कोंकण क्षेत्र की रक्षा के लिए आज की नौसेना बल की नींव रखी थी।

यह न्यूज जरूर पढे