धर्म और पर्यावरण के साथ न करे खिलवाड़

by | Feb 17, 2021 | ठाणे, महाराष्ट्र


धर्मेंद्र उपाध्याय
ठाणे।धार्मिक आस्था और पर्यावरण के साथ हो रहे खिलवाड़ से आने वाले समय में बड़ा संकट उत्पन्न हो सकता है।वहीं आस्था व पर्यावरण के साथ ही भगवान के प्रति अपनी आस्था के संरक्षण के लिए शिवशांति प्रतिष्ठान की ओर से पिछले कई महीनों से भगवान की खंडित मूर्तियों और तस्वीरों को एकत्रित कर उनका विधि विधान से विसर्जन किया जा रहा है। संस्था के अध्यक्ष विनय कुमार सिंह ने सभी शहर वासियों से अनुरोध किया है कि हम सभी मिलकर भगवान का सम्मान करें, उनका अनादर न होने दें। उन्होंने कहा कि जिस उत्साह के साथ हम सभी भगवान की मूर्तियों और तस्वीरों को अपने घर लाते हैं तथा पूरी आस्था से उनकी पूजा करते हैं लेकिन उनके खंडित हो जाने के बाद उन्हें सड़क पर तथा अन्य जगहों पर रख देते हैं, जिससे वहां पर कुत्ते तथा अन्य जानवर गन्दगी करते हैं जिसके कारण भगवान का अनादर होता है। साथ ही उन्होंने बताया कि भगवान के हो रहे अनादर को रोकने के लिए संस्था द्वारा लगातार इस विषय पर कार्य किया जा रहा है। साथ ही शहर के बाजार पेठ स्थित प्राचीन मंदिर कोपनेश्वर, कापरबावड़ी स्थित आशापुरा मंदिर,वर्तक नगर श्री साईनाथ मंदिर, ठाणे केंद्रीय कारागार स्थित शनि मंदिर, श्री किल्ला मारुति मंदिर पर लोगों को जागरूक करने के लिए मंदिरों के सभी ट्रस्ट के विशेष सहयोग से मंदिर परिसर के दीवारों पर बैनर लगाया गया है, जिसमें यह उल्लेख किया गया है कि भगवान के प्रतिमाओं का अनादर न करें तथा उनके खंडित प्रतिमाओं का पर्यावरण के संरक्षण को ध्यान में रखते हुए विधि विधान से विसर्जन करें और यदि आप इसमें असमर्थ हैं तो कृपया संस्था से संपर्क कर व प्रतिमाएं हम तक पहुचाएं ताकि हम उसका विधि विधान से पूरे मंत्रोउच्चारण के साथ विसर्जन कर सकें। इस अवसर पर कोपिनेश्वर मन्दिर के ट्रस्टी रविंद्र उतेकर,साईबाबा मंदिर,आशापुरा के ट्रस्टी और संस्था के अन्य सदस्य उपस्थित थे।

यह न्यूज जरूर पढे